Wednesday , May 27 2020 21:50
Breaking News

लॉकडाउन में मोदी सरकार ने किसानों को राहत देने के लिए लिया ये बड़ा निर्णय

नरेन्द्र मोदी सरकार ने किसानों को राहत देने के लिए बड़ा निर्णय लिया है। किसान क्रेडिट कार्ड (KCC- kisan credit card) पर बैंकों से लिए गए सभी अल्पकालिक फसली कर्जों (Agri loan) के भुगतान की तारीख दो माह तक बढ़ा दी है। इसकी अंतिम तारीख 31 मार्च से बढ़ाकर 31 मई कर दी गई है। मतलब ये है कि अब किसान 31 मई तक अपने फसल ऋण को बिना किसी बढ़े ब्याज के केवल 4 फीसदी प्रति साल के पुराने रेट पर ही भुगतान कर सकते हैं। इससे करीब 7 करोड़ किसान क्रेडिट कार्ड धारक परिवारों को राहत मिलेगी।


केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने इसके लिए पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) व वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण का आभार जताया है। उन्होंने बोला कि कोरोना वायरस (Covid-19) महामारी रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन में लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाया गया है। ऐसे में कई किसान अपने बकाया लोन के भुगतान के लिए बैंक शाखाओं तक जाने में सक्षम नहीं हैं। इसके अलावा, आवाजाही पर प्रतिबंध के चलते कृषि उत्पादों की समय पर बिक्री व उनका भुगतान लेने में परेशानी हो रही है। इसलिए इन्हें छूट प्रदान की गई है। इससे फसलों की कटाई में भी बाधा नहीं आएगी।

केंद्र सरकार किसानों को दे रही है बड़ी छूट

खेती-किसानी के लिए केसीसी पर लिए गए तीन लाख रुपये तक के कर्ज़ की ब्याजदर वैसे तो 9 प्रतिशत है। लेकिन सरकार इसमें 2 परसेंट की सब्सिडी देती है। इस तरह यह 7 प्रतिशत पड़ता है। लेकिन समय पर लौटा देने पर 3 प्रतिशत व छूट मिल जाती है। इस तरह इसकी दर ईमानदार किसानों के लिए मात्र 4 प्रतिशत रह जाती है।

अगर किसान 31 मार्च या फिर समय पर इस लोन का बैंक को भुगतान नहीं करते हैं तो उन्हें 7 प्रतिशत ब्याज देना होता है। कोविड-19 संकट को देखते हुए सरकार ने इसी बढ़े ब्याज पर राहत देकर 31 मई तक उनसे सिर्फ 4 प्रतिशत रेट पर ही पैसा वापस लेने का निर्णय लिया है।

लॉकडाउन में किसानों से जुड़े अन्य निर्णय

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने बताया कि कृषि उत्पादों की खरीद, मंडियों, उर्वरकों की दुकानों, किसानों और कृषि श्रमिकों द्वारा खेत में किए जाने वाले कार्यों आदि में पहले ही छूट दी गई है। फसल कटाई और बुआई व बागवानी में कार्य आने वाले यंत्रों की अंतरराज्यीय आवाजाही को भी छूट दी गई है।

Share & Get Rs.
error: Content is protected !!