Monday , September 21 2020 18:30
Breaking News

कोरोना को लेकर चीनी वैज्ञानिको ने खोला ये बड़ा राज, कहा ऐसे पाए छूटकारा…

हॉन्गकॉन्ग स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ से वायरोलॉजी और इम्यूनोलॉजी में विशेषज्ञता प्राप्त डॉ. ली-मेंग को कथित रूप से सुरक्षा चिंताओं के कारण संयुक्त राज्य भागने के लिए मजबूर किया गया था।

 

11 सितंबर को, उसने एक गुप्त स्थान से ब्रिटिश टॉक शो “लूज़ वीमेन” पर एक साक्षात्कार दिया और कोरोनोवायरस बीमारी पर अपने शोध और उन चुनौतियों के बारे में बात की।

वहीं डॉ. ली-मेंग ने कहा कि उन्होंने दिसंबर के अंत और जनवरी के शुरू में चीन में “न्यू निमोनिया” पर दो शोध किए और अपने सुपरवाइजर के साथ परिणाम साझा किए जो विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के सलाहकार हैं ।

वह अपने सुपरवाइजर से “चीनी सरकार और डब्ल्यूएचओ की ओर से सही काम” करने की उम्मीद कर रही थी, लेकिन उसे आश्चर्य हुआ कि उसे “चुप्पी बनाए रखने के लिए कहा गया था वरना उसे गायब कर दिया जाएगा”.

आपको बता दें कि कोरोना वायरस महामारी से निपटने के लिए चीनी सरकार के खिलाफ व्हिसलब्लोअर बनने वाले वीरोलॉजिस्ट को पिछले साल दिसंबर में चीन से निकलने वाले कोरोना-जैसे मामलों का एक समूह बनने का काम सौंपा गया था।

वहीँ हांगकांग में काम करने वाले शीर्ष वैज्ञानिक ने दावा किया कि उन्होंने अपनी जांच के दौरान एक कवर-अप ऑपरेशन की खोज की और कहा कि चीनी सरकार को सार्वजनिक रूप से स्वीकार करने से पहले ही वायरस के प्रसार के बारे में पता था।

कोरोना वायरस का कहर दुनियाभर में जारी है, वहीँ इस वायरस को फैलाने का आरोप चीन पर ही लगते हुए आया है. आपको बता दें कि अब इसमें एक बड़ा खुलासा करते हुए चीनी वीरोलॉजिस्ट डॉ. ली-मेंग यान ने दावा किया है कि नोवल कोरोना वायरस वुहान में एक सरकार नियंत्रित प्रयोगशाला में बनाया गया था और उसके पास दावा साबित करने के लिए वैज्ञानिक प्रमाण हैं।

 

 

 

Share & Get Rs.
error: Content is protected !!