Wednesday , September 23 2020 22:36
Breaking News

राजनाथ सिंह की चीन को दो टूक, कहा भूलकर कर भी न करे वरना…

श्रृंगला ने कहा कि पिछले कुछ दशकों से दोनों देशों के बीच सीमा का मुद्दा एक चुनौती है। भारत हमेशा एक शांतिपूर्ण समाधान की ओर बढ़ा है। कभी नहीं चाहता था कि सीमा पर युद्ध की स्थिति बने। शांतिपूर्ण समाधान के लिए भारत-चीन सैन्य और कूटनीतिक वार्ता चल रही है।

पिछले शनिवार को, भारतीय सेना ने पंगोंग झील के दक्षिण में कई पर्वत चोटियों पर कब्जा कर लिया था, चीन ने चुशुल सेक्टर में अपनी सेना बढ़ानी शुरू कर दी।

उन्होंने झील के दक्षिण में मोल्डो के पास अतिरिक्त टैंक तैनात किए हैं। प्रतिशोध में, भारत ने भी रेचिन ले में संवेदनशील हाइलैंड्स पर कब्जा करके अपनी सेना की तैनाती बढ़ा दी है।

बैठक के दौरान, भारतीय विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा कि 1982 के बाद से चीनी सीमा पर ऐसी कोई समस्या उत्पन्न नहीं हुई थी। वर्तमान स्थिति ‘अभूतपूर्व’ है। उन्होंने कहा कि द्विपक्षीय संबंधों के बारे में सीमा मुद्दों का प्रभाव पड़ता है। परिणामस्वरूप, द्विपक्षीय व्यापार और आपसी सहयोग बाधित हो रहा है।

मास्को ने इस मामले में मध्यस्थ की भूमिका निभाई। क्योंकि, राजनयिकों के अनुसार, यह दो शक्तिशाली एशियाई देशों के लिए संघर्ष में शामिल होने के लिए रूस के लिए किसी भी तरह से वांछनीय नहीं है।

राजनाथ सिंह शंघाई कॉरपोरेशन (SCO) सम्मेलन के मौके पर रूस की तीन दिवसीय यात्रा पर हैं। चीनी रक्षा मंत्री ने भी सम्मेलन में भाग लिया। वेन फेंग के साथ राजनाथ की बैठक शुक्रवार रात सम्मेलन के मौके पर हुई।

पिछले जून में लद्दाख के गालवान में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच झड़प के बाद दोनों देशों के शीर्ष नेताओं के बीच यह पहली आमने-सामने की बैठक है।

बैठक के दौरान, राजनाथ सिंह ने कहा कि सीमा पर शांति बनाए रखने के लिए पहला कदम विश्वास की गरिमा बनाए रखना है। आक्रामकता दिखा कर आक्रामकता को रोका जाना चाहिए। दोनों देश अंतरराष्ट्रीय नीति के आधार पर शांति की शपथ लेंगे।

यह बैठक शुक्रवार को रूस के मास्को में मेट्रोपोल होटल में आयोजित की गई थी। बैठक 2 घंटे 20 मिनट तक चली और सीमा पर तनाव को कम करने के विभिन्न तरीकों पर चर्चा की गई।

भारत-चीन सीमा पर तनाव बढ़ रहा है।  इस बीच, भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सीमा विवाद को सुलझाने के लिए चीनी रक्षा मंत्री जनरल वेई फेंग के साथ बैठक की है।

 

 

 

 

 

 

Share & Get Rs.
error: Content is protected !!