Saturday , September 19 2020 10:21
Breaking News

भारतीय सेना ने LAC पर बदली पोजिशन, करने जा रहा चीन के खिलाफ…पूरी तरह खतरनाक…

भारतीय सेना ने डेमसांग के मैदान में एक युद्ध समूह (बख्तरबंद और मशीनीकृत तत्वों का मिश्रण) तैनात करके एक विशेष पहल की है, जो चूमर में पीएलए को संकेत देने के लिए एक अन्य लड़ाकू समूह से मेल खाता है।

वहीं, पीएलए जनरल सेक्रेटरी शी जिनपिंग का आरोप है कि भारतीय सेना ने सीमा की स्थिति को बदला है। उनका कहना है कि चीन घुसपैठ के कोई प्रयास नहीं किया है।

भारतीय सेना ने 1962 के युद्ध के बाद चीन का मुकाबला करने के लिए उठाए गए विशेष फ्रंटियर फोर्स जैसे अतिरिक्त विशेष बलों को तैनात करके सेक्टर में पीएलए के सैनिकों की बढ़ोतरी के जवाब में किया है।

SFF सैनिकों ने चीनी PLA को हटाने में मुख्य भूमिका निभाई थी, जिसने पांच दिन पहले पैंगोंग त्सो के दक्षिणी तट पर भारतीय क्षेत्र को हथियाने की कोशिश की थी। तब से भारतीय सैनिकों ने दक्षिणी बैंक पर प्रमुख ऊंचाइयों पर कब्जा कर लिया है।

एक अधिकारी ने कहा कि भारतीय सेना अब लद्दाख के संवेदनशील इलाकों में किसी भी चीनी पीएलए परिवर्तन को पूर्व-खाली करने के लिए एक सुरक्षित सीमा मोड में है।’

‘ एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि भारतीय सेनाओं का स्थान परिवर्तन चीनी आक्रमण को ध्यान में रखने और यह सुनिश्चित करने के लिए किया गया है कि सभी पोस्ट का बचाव किया जाए।

भारतीय सेना ने लद्दाख में 1597 किलोमीटर लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर सीमा को सुरक्षित करने के लिए अपनाी पोजिशन बदल ली है।

इस मामले की की जानकारी रखने वाले व्यक्ति ने कहा चुशुल सेक्टर में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) की घुसपैठ की कोशिश के बाद सैनिकों ने अपने पोजिशन को पहले से और मजबूत कर लिया है। आपको बता दें कि पीएलए वायु सेना की गतिविधि कब्जे वाले अक्साई चिन क्षेत्र में बढ़ गई है।

 

 

 

 

Share & Get Rs.
error: Content is protected !!