Friday , December 6 2019 5:48
Breaking News

BDay Special: आज भी हैं लाजवाब है नवजोत सिंह सिद्धू 

नवजोत सिंह सिद्धू आज एक ऐसा नाम है जो केवल क्रिकेट तक ही सीमित नहीं कभी टीम इंडिया के सलामी बल्लेबाज रहे सिद्धू आज भी चहेते कॉमेंटेटर हों लेकिन इन दिनों वे पॉलिटिक्स में अपने ही अंदाज में मैदान पर डटे हैं नवजोत सिंह सिद्धू शनिवार को अपना 55वां जन्मदिन मना रहे हैं करीब एक वर्ष पहले उन्होंने अपनी राजनैतिक पार्टी बदली थी, लेकिन उनके अंदाज  यहां तक की मुद्दों को लेकर उनकी सोच वही है जो कभी किसी पार्टी में नहीं बंधी उनकी यही धाकड़ सोच उनके खेल  उनकी कॉमेंट्री तक में नजर आती है

Image result for BDay Special: आज भी हैं लाजवाब है नवजोत सिंह सिद्धू कुछ महीने पहले ही जब पाक के पूर्व क्रिकेटर  उनके दोस्त इमरान खान पाक के पीएम बने  उन्होंने सिद्दू को अपने शपथ ग्रहण समारोह में बुलाया तो सिद्धू ने इसे मौके के तौर पर देखा  खुलकर बोला कि वे न्यौता मिले तो पाक जरूर जाएंगे उस समय पाक से इंडियन पॉलिटिक्स में उसके आंतकवाद को समर्थन करने के रवैये को लेकर खासे नाराज से गवर्नमेंटपाक से वार्ता को खारिज कर रही थी  विपक्षी कांग्रेस पार्टी तक भी पाक से वार्ता के मुद्दे पर गवर्नमेंट को मौन ही सही लेकिन समर्थन दे रही थी लेकिन सिद्दू इसे मौके के तौर पर देखते रहे  वे प्रोग्राम में गए यहां तक कि आलोचना भी झेली

धाकड़ बल्लेबाज रहे सिद्धू
सिद्धू का अपने एजेंडे पर कायम रहने का यह अंदाज उनके क्रिकेटीय करियर में भी दिखा वे बेबाकी से बल्लेबाजी करते थे गेंदबाजों तक को अंदाज नहीं होता था कि सिद्दू कब किस गेंद पर आगे बढ़कर छक्का मार दें वे अभी सक्रिय क्रिकेट से भले ही दूर हों लेकिन क्रिकेट में उनकी चर्चा होती ही रहती है

नवजोत सिंह सिद्धू का जन्म 20 अक्तूबर 1963 को पंजाब राज्य के पटियाला जिले में हुआ था सिद्धू के पिता सरदार भगवंत सिंह सिद्धू भी एक क्रिकेट खिलाड़ी थे  वह अपने बेटे नवजोत को एक क्रिकेटर के रूप में देखना चाहते थे सिद्धू ने अपने पिता के इस सपने को पूरा किया  1983 से लेकर 1999 तक अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेला शुरुआती दो टेस्ट मैच खेलने के बाद सिद्धू को टीम से बाहर बैठना पड़ा, लेकिन पांच वर्ष के लंबे प्रयत्न के बाद उनकी भाग्य बदली  उन्हें 1987 के वर्ल्ड कप में मौका मिला

87 के वर्ल्डकप ने किया स्थापित
सिद्धू ने 1987 वर्ल्ड कप के मौके का लाभ उठाया  भारतीय टीम में जम गए उन्होंने ने सिर्फ 20 वर्ष की आयु में हिंदुस्तान की तरफ से टेस्ट क्रिकेट खेलना प्रारम्भ किया  अपने तीसरे ही टेस्ट मैच में न्यूजीलैंड के विरूद्ध शतक लगा डाला सिद्धू ने अपने क्रिकेट करियर में ऐसे कई रिकॉर्ड बनाए हैं, जिन्हें आज तक कोई इंडियन खिलाड़ी नहीं तोड़ सका

एक टेस्ट पारी में सर्वाधिक छक्के लगाने का रिकॉर्ड
सिद्धू हिंदुस्तान की तरफ से एक पारी में सर्वाधिक छक्के जड़ने का रिकॉर्ड आज भी नहीं टूटा है नवजोत सिंह सिद्धू ने वर्ष 1994 में श्रीलंका के विरूद्ध लखनऊ में एक टेस्ट पारी में 8 छक्के जड़े थे   सिद्धू के बाद इस लिस्ट में 7 छक्कों के साथ हार्दिक पांड्या, वीरेंद्र सहवाग  हरभजन सिंह हैं हार्दिक पांड्या ने 2017 में श्री लंका के खिलाफ, सहवाग ने वर्ष 2009 में श्रीलंका के विरूद्ध  हरभजन सिंह ने वर्ष 2010 में न्यूजीलैंड के विरूद्ध 7 छक्के लगाए थे

पहले चार वनडे में लगातार अर्धशतक
नवजोत सिंह सिद्धू अपने पहले चार वनडे मैचों में लगातार अर्धशतक जड़ने वाले पहले इंडियन खिलाड़ी हैं 1987 के वर्ल्ड कप में नवजोत सिंह सिद्धू ने अपने पहले ही एकदिवसीय मैच में 73 रन की धुंआधार पारी खेली, लेकिन वो अपनी टीम को ऑस्ट्रेलिया से होने वाली पराजय से नहीं बचा पाए इस मैच के बाद से ही नवजोत सिंह सिद्धू सुर्खियों में आ गए थे.1987 वर्ल्ड कप के पांच में चार मैचो में उन्होंने अर्द्धशतक बनाए  हिंदुस्तान को सेमीफाइनल तक पहुंचाया सेमीफाइनल में हिंदुस्तान का मुकाबला इंग्लैंड से था इस मैच में सिद्धू का बल्ला नहीं चला  हिंदुस्तान को पराजय का मुंह देखना पड़ा इस पराजय के साथ ही हिंदुस्तान विश्वकप की दौड़ से भी बाहर हो गया

बेहतरीन रिकॉर्ड रहा है सिद्दू का
नवजोत सिंह सिद्धू ने 1993, 1994  1997 में 500 से ज्यादा टेस्ट रन बनाए थे 1997 में वेस्ट इंडीज दौरे में उन्होंने अपना एकमात्र टेस्ट में दोहरा शतक लगाया था टेस्ट में उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 201 था जो उन्होंने वेस्ट इंडीज के विरूद्ध लगाया था   सिद्धू ने अपना पहला वनडे शतक 1989 में पाक के विरूद्ध शारजाह में लगाया था इसके बाद 1993 में उन्होंने इंग्लैंड के विरूद्ध अपने एकदिवसीय करियर की 134 रन की सर्वश्रेष्ठ पारी खेली थी उन्होंने हिंदुस्तान के लिए 51 टेस्ट मैचो में 42.13 की औसत से 3212 रन बनाए, जिसमें उनके 9 शतक  14 अर्धशतक शामिल है जबकि अपने 136 वनडे मैचों में नवजोत ने 37.08 की औसत से 4413 रन बनाए, जिसमें 6 शतक  33 अर्द्धशतक शामिल है अपनी शानदार बल्लेबाजी की वजह से ही उन्हें ‘सिक्सर सिद्दू’ कहकर पुकारा जाता था

Share & Get Rs.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!