Breaking News

हिन्दुस्तान में एक साल में अमीरों की सूची में जुड़े 7,300 नए लोग

भारत में अमीर-गरीब की खाई बढ़ने को लेकर बढ़ती चिंताओं के बीच जून 2017 से जून 2018 के बीच देश में दस लाख डॉलर या आज की दर पर 7.3 करोड़ रुपए से अधिक की सम्पत्ति वाले धनाढ्यों की संख्या में 7,300 का इजाफा हुआ है। एक रिपोर्ट के अनुसार इस वर्ष जून के अंत में भारत में ऐसे धनाढ्यों की संख्या 3.43 लाख तक पहुंच गई। इनकी कुल सम्पत्ति 6,00 अरब डॉलर के बराबर आंकी गई है। वित्तीय सेवा कंपनी क्रेडिट सुसी की ताजा रिपोर्ट के अनुसार भारत सबसे अधिक महिला अरबपतियों (एक अरब डॉलर यानी 73.5 अरब रुपए से अधिक की सम्पत्ति वाली महिला अमीरों) का देश है। समीक्षावधि के दौरान दुनिया की 18.6 प्रतिशत महिला अरबपति भारत में थीं। .

Image result for हिन्दुस्तान में एक साल में अमीरों की सूची में जुड़े 7,300 नए लोग

रिपोर्ट में कहा गया है कि जून 2018 तक देश में दस लाख डॉलर या उससे अधिक की हैसियत वाले धनाढ़यों की कुल संख्या 3,43,000 रहने का अनुमान है। पिछले एक वर्ष में इस श्रेणी के लोगों की संख्या में 7,300 की वृद्धि हुई है।
नए धनाढ़्यों में 3,400 लोगों की संपत्ति पांच करोड़ डॉलर (करीब 36.5 करोड़ रुपए) और 1,500 लोगों की संपत्ति 10 करोड़ डॉलर (करीब 73 करोड़ रुपए) से अधिक है। इस अवधि में देश की संपत्ति में 2.6 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 6,000 अरब डॉलर रही। हालांकि देश में प्रति व्यस्क संपत्ति 7,020 डॉलर पर ही बनी रही, इसकी अहम वजह रुपए का बढ़ना है।

loading...

रिपोर्ट में कहा गया है कि 2023 तक भारत में धनाढ़्यों की संख्या और गरीबी-अमीर का फर्क बढ़ेगा। उस समय तक के बीच असमानता 53 प्रतिशत से ऊपर बढ़ने की उम्मीद है। देश में ऐसे अमीरों की संख्या 5,26,000 होगी जो 8,800 अरब डॉलर की संपत्ति के मालिक होंगे तथा अमीर-गरीब की खाई 53 प्रतिशत गहरी हो जाएगी। भारत में लोगों की व्यक्तिगत सम्पत्ति जमीन जायदाद और अन्य अचल सम्पत्तियों के रूप में है। पारिवारिक सम्पत्तियों में ऐसी सम्पत्ति का हिस्सा 91 प्रतिशत है।-एजेंसी

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!