Thursday , December 12 2019 0:26
Breaking News

पाकिस्तान में पल रहे आतंकियों के खिलाफ एयर स्ट्राइक के बाद, ट्रैप में फंस गया विपक्ष?

पाकिस्तान में पल रहे आतंकियों के खिलाफ एयर स्ट्राइक के बाद 2016 जैसा राजनीतिक माहौल नजर आ रहा है, जब सेना ने पीओके में घुसकर सर्जिकल स्ट्राइक की और विपक्षी दलों ने उसके सबूत मांग लिए. विपक्ष के इस रवैये को सेना के शौर्य और पराक्रम पर शक बताते हुए सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी ने जमकर आलोचना की थी. और तकरीबन ढाई साल बाद जून 2018 में सर्जिकल स्ट्राइक के वीडियो जारी कर दिए थे.

उरी में आतंकी हमले के बाद भारतीय थल सेना के विशेष कमांडोज ने 28-29 सितंबर 2016 की रात पाकिस्तान की सीमा में घुसकर आतंकियों पर प्रहार किया था. जवानों की इस जांबाजी का तत्कालीन डीजीएमओ (DGMO) लेफ्टिनेंट जनरल रनबीर सिंह ने बाकायदा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर ऐलान किया. पाकिस्तान की सीमा में घुसकर जवानों की शहादत का बदला लेने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सख्त फैसले की भी चर्चा शुरू हो गई और सेना के साथ सरकार के साहस की भी सराहना होने लगी. लेकिन इसके बाद जल्द ही विपक्ष ने सरकार से स्ट्राइक के सबूत मांग लिए.

4 अक्टूबर, 2016 को महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता संजय निरुपम ने सर्जिकल स्ट्राइक को फर्जी करार दिया. संजय निरुपम ने कहा था कि हर भारतीय पाकिस्तान के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक चाहता है, लेकिन बीजेपी द्वारा राजनीतिक लाभ उठाने के लिए फर्जी (सर्जिकल स्ट्राइक) नहीं.

संजय निरुपम के अलावा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सर्जिकल स्ट्राइक को सेना की बहादुरी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इच्छा शक्ति का परिणाम बताते हुए यह भी कह दिया कि पीएम मोदी सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर किए जा रहे दुष्प्रचार को बंद करने का काम करें. केजरीवाल ने वीडियो संदेश में कहा कि पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय पत्रकारों को ले जा रहा है और ये दिखाने की कोशिश कर रहा है कि सर्जिकल स्ट्राइक तो हुई ही नहीं. प्रधानमंत्री जी पाकिस्तान के इस प्रोपेगेंडा को एक्सपोज करने कीजिए.

इसी तरह पूर्व विदेश मंत्री और कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने मांग की थी कि सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो जारी होना चाहिए. वीडियो जारी भी किया गया, लेकिन उससे पहले बीजेपी नेताओं ने 2017 की शुरुआत में हुए पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव में सर्जिकल स्ट्राइक का जमकर अपने भाषणों में इस्तेमाल किया. खासकर यूपी में इसकी झलक सड़कों पर बीजेपी नेताओं द्वारा लगाए गए पोस्टरों से भी देखने को मिली.

यूपी विधानसभा चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देने वाले वाक्य अपने भाषणों में इस्तेमाल किए. 5 फरवरी 2017 को मेरठ की रैली में पीएम मोदी ने कहा था कि उनकी सरकार ने पाकिस्तान में घुसकर पाई-पाई का हिसाब चुकाया है. दूसरी तरफ, योगी आदित्यनाथ ने जनवरी 2017 की गोरखपुर रैली में कहा था कि यूपी में इस बार बीजेपी की पूर्ण बहुमत की सरकार बनेगा और अगली सर्जिकल स्ट्राइक हाफिज सईद पर की जाएगी. बयानों के अलावा सर्जिकल स्ट्राइक के नारे के साथ पीएम मोदी और तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर के पोस्टर भी यूपी की सड़कों पर देखने को मिले.

मार्च 2017 में जब चुनाव के नतीजे आए तो यूपी में बीजेपी ने इतिहास रच दिया. 2017 में कुल सात राज्यों में चुनाव हुए, जिनमें से पंजाब को छोड़कर सब जगह बीजेपी की सरकार बनी. इसके बाद जून 2018 में सबूत के तौर पर वीडियो जारी किया गया.

पुलवामा का बदला, एयरस्ट्राइक और सबूत

बीते 14 फरवरी को पुलवामा में आत्मघाती आतंकी हमले के बाद 26 फरवरी को वायुसेना ने जो एयरस्ट्राइक की है, उस पर विपक्ष सबूत मांगने लगा है. सबसे पहले 28 फरवरी को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री बनर्जी ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय मीडिया में एयरस्ट्राइक से कोई नुकसान न होने की खबर आ रही हैं, ऐसे में पीएम मोदी विपक्ष को बताएं कि कहां बम गिराए गए और कितने आतंकी मारे गए.

3 मार्च को सीपीआई नेता डी. राजा ने भी ऐसे ही सवाल खड़े किए और पूछा कि भारतीय मीडिया में 200-300 आतंकियों के मारे जाने का आंकड़ा कहां से आया?

कांग्रेस की तरफ वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल, पी. चिदंबरम, दिग्विजय सिंह, नवजोत सिंह सिद्धू और सांसद अजय सिंह भी सवाल उठा चुके हैं. कांग्रेस नेता भी अंतरराष्ट्रीय मीडिया का हवाला दे रहे हैं. 4 मार्च को कपिल सिब्बल ने एक ट्वीट कर पूछा कि क्या अंतरराष्ट्रीय मीडिया में जो किसी भी नुकसान की खबर आ रही है वो प्रो-पाकिस्तानी है? हालांकि, पी. चिदंबरम ने कहा है कि हम मिलिट्री पर सवाल नहीं कर रहे हैं, बल्कि ये कह रहे हैं कि पुलवामा हमले के बाद पीएम मोदी पूरे मामले का राजनीतिकरण कर रहे हैं.

अब जबकि लोकसभा चुनाव नजदीक है और प्रचार चल रहा है, ऐसे में भारतीय जनता पार्टी के नेता और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आतंकियों के आंकड़ों पर पूछे जा रहे सवालों को सेना के शौर्य पर शक बताकर रैलियों में भाषण कर रहे हैं. पटना के गांधी मैदान में बीजेपी की संकल्प रैली में रविवार को प्रधानमंत्री ने कहा कि जब देश को एक आवाज में बोलने की आवश्यकता है तब 21 राजनीतिक दल हमारी निंदा करने वाले प्रस्ताव को अपनाने के लिए दिल्ली में एकत्र हो गए और वह सशस्त्र बलों से उनकी बहादुरी का सबूत मांग रहे हैं.

यानी सर्जिकल स्ट्राइक के बाद जिस तरह बीजेपी ने विपक्ष के सवालों को उनकी आलोचना का आधार बनाया था, वैसा ही एयर स्ट्राइक के बाद देखने को मिल रहा है.

Share & Get Rs.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!