Wednesday , February 19 2020 4:42
Breaking News

दोस्त को कुलपति बनाने के लिए युवक ने राज्यपाल को किया फ़ोन…. कह डाली ऐसी बाते और फिर…

एसटीएफ एडीजी अशोक अवस्थी ने बताया कि जबलपुर के मध्यप्रदेश आयुर्विज्ञान विश्वविद्यालय में कुलपति चयन होना था जिसके लिए कई लोगों ने बायोडाटा दिए थे। कुलपति चयन के लिए सर्च कमेटी ने साक्षात्कार भी लिए थे। इसमें भोपाल के साकेतनगर में रहने वाले डेंटल सर्जन डॉ. चंद्रेश कुमार शुक्ला भी शामिल थे।

चयन प्रक्रिया के बीच में डॉ. शुक्ला ने अपने मित्र एयरफोर्स में विंग कमांडर कुलदीप वाघेला से चर्चा की। शुक्ला ने मित्र वाघेला को कहा कि कुलपति बनने के लिए किसी बड़े व्यक्ति से फोन कराना पड़ेगा तो दोनों के बीच चर्चा में भाजपा अध्यक्ष व केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से राज्यपाल की बात कराना तय हुआ।

मगर अमित शाह का लिंक नहीं मिलने पर दोनों ने खुद ही शाह बनकर राज्यपाल से बात करने की योजना बनाई।जब राज्यपाल को आवाज और बात करने के लहजे पर संदेह हुआ तो उन्होंने इसकी जानकारी स्टाफ को दी। इसके बाद राज्यपाल के स्टाफ ने गृह मंत्री के दिल्ली स्थित दफ्तर और निवास से ऐसी किसी फोन कॉल की जानकारी ली तो पता चला कि गृह मंत्री ने ऐसा कोई फोन कॉल किया ही नहीं। इसके बाद एक लिखित शिकायत मध्य प्रदेश एसटीएफ को दी गई। एसटीएफ ने इस मामले में धारा 419 और 420 के तहत मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की।

जांच में एयरफोर्स के विंग कमांडर कुलदीप वाघेला और डॉक्टर चंद्रेश कुमार शुक्ला की संलिप्तता पाई गई, जिसके बाद विंग कमांडर कुलदीप को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं डॉक्टर चंद्रेश शुक्ला को भी एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया है। एसटीएफ एडीजी के मुताबिक विंग कमांडर कुलदीप वाघेला पूर्व में मध्य प्रदेश के राज्यपाल के निवास पर तैनात रह चुका है, इसलिए उसे जानकारी थी कि फोन पर राज्यपाल से बात कैसे हो पाएगी और इसी का उसने फायदा उठाने की कोशिश की लेकिन कामयाब नहीं हो सका।

Share & Get Rs.
error: Content is protected !!