Breaking News

इस पाकिस्तानी महिला ने कश्मीर मुद्दे पर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दी ये धमकी

Loading...

सांप और मगरमच्छ दिखाकर भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धमकी देने वाली पाकिस्तानी गायिका राबी पीरजादा अब बैकफुट पर आ गई हैं। दरअसल, उनकी इस हरकत की वजह से पाकिस्तान के वन्यजीव विभाग ने सरीसृपों की जान को खतरे में डालने के आरोप में उनका चालान कर दिया है।

पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, सांपों और मगरमच्छ को अवैध तरीके से घर में रखने के लिए वन्य विभाग ने उन्हें जुर्माना भरने को कहा है। साथ ही यदि इस मामले में उन्हें दोषी पाया जाता है, तो उन्हें पांच साल की जेल की सजा भी हो सकती है।

Loading...

इसके साथ ही पीरजादा ने कहा कि यह सांप और मगरमच्छ उनके नहीं हैं और उन्होंने वीडियो के लिए उन्हें किराये पर लिया था। पाकिस्तान में ही उनके खिलाफ कार्रवाई होने के बाद उन्होंने कहा कि ऐसी ही बातों से पता चलता है कि बहुत सारे भारतीय ‘गद्दार पाकिस्तानियों’ से कहीं बेहतर हैं। बताते चलें कि इस महीने की शुरुआत में पीरजादा ने इन सांप को दिखाते हुए भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धमकी दी थी कि कश्मीरी महिलाएं और उनके सांप भारत के लिए तैयार हैं। इस दौरान कई सांपों और मगरमच्छ को उनकी मेज और जमीन पर पड़े हुए भी देखा जा सकता था। राबी ने कहा था कि यह सारे गिफ्ट मोदी के लिए हैं, गेट रेडी टू डाई इन हेल।

उन्होंने वन्यजीव विभाग को खरीखोटी सुनाई। एक अन्य वीडियो में पीरजादा ने कहा कि वह बीते पांच साल से इन सांपों को लेकर कई न्यूज चैनलों में जाती रहीं हैं, तब को किसी को कोई परेशानी नहीं हुई। कोई एक्शन नहीं लिया गया। मगर, जैसे ही मैंने मोदी को धमकी दी, तो दुर्भाग्य से मेरे खिलाफ तुरंत कार्रवाई की गई। पाकिस्तानी गायिका ने किसी का नाम लिए बिना कहा- इन घटनाओं से उन्हें विश्वास हो गया है कि देशद्रोही पाकिस्तानियों से भारतीय कहीं ज्यादा अच्छे हैं। वन्य विभाग भी एक ऐसा ही देश-द्रोही है।

उन्होंने कहा कि मैं कभी भारतीयों की आलोचना नहीं करती, सिर्फ मोदी को निशाना बनाती हूं। अगर आप लोग पाकिस्तान से प्यार नहीं कर सकते, तो कम से कम गद्दारी मत करिए। उन्होंने कहा कि अभी वन्यजीव विभाग की तरफ से उन्हें लिखित में कुछ नहीं मिला है और जैसे ही मिलेगा, वह विभाग के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करेंगी।

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!