Saturday , January 23 2021 8:15
Breaking News

धोखेबाज चीन की इस कोशिश को भारतीय सेना के जवानों ने किया …

आप सभी को हम यह भी बता दें कि भारत ने Thakung के पास ऊंचाई वाले क्षेत्रों में पैदल सेना के लड़ाकू वाहनों और टैंकों सहित हथियारों को स्थानांतरित किया है. इस पूरे ऑपरेशन में शामिल सैनिकों में भारतीय अधिकारियों के साथ-साथ विकास रेजिमेंट के अंतर्गत काम करने वाले तिब्बती भी शामिल रहे.

धोखेबाज चीन की इस कोशिश को भारतीय सेना के जवानों ने किया ...

इसी के साथ चीनियों का यह भी इरादा है कि उस ऊंचाई पर कब्जा कर लिया जाए. जी दरअसल कब्जे में रखने वाले पक्ष को झील और आसपास के दक्षिणी तट को नियंत्रित करने में रणनीतिक लाभ मिल सकता है. ऐसे में भारतीय सेना को चीन की इस प्लानिंग का आभास पहले से ही हो गया था. इस कारण से चीन की तरफ से कोई कदम उठाने से पहले ही यह निर्णय लिया गया था कि इस स्ट्रैटजिक हाइट पर सेना की टुकड़ी को तैनात करना चाहिए

इस खबर से जुड़े सूत्रों के अनुसार LAC पर तनातनी के माहौल को देखकर भारतीय सेना की विकास रेजिमेंट बटालियन उत्तराखंड से पैंगोंग लेक के दक्षिणी तट के पास तैनात की गई.चालबाज चीन दिन पर दिन ऐसी हरकतें कर रहा है जिससे वह सबकी नजरों में आ रहा है. इस समय चीन LAC पर अपनी नापाक हरकत करने में पीछे नहीं है. मिली जानकारी के मुताबिक ईस्टर्न लद्दाख इलाके में पैंगोंग लेक के पास चीनी सैनिकों ने एक बार फिर से घुसपैठ करने की कोशिश की है लेकिन भारतीय सेना के जवानों ने धोखेबाज चीन की इस कोशिश को नाकाम कर दिया.

उसके बाद बटालियन ने एक स्ट्रैटेजिक हाइट पर कब्जा किया जो वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत के क्षेत्र में निष्क्रिय था. वहीँ चीनी ये भी दावा कर रहा है कि यह क्षेत्र उनके क्षेत्र में स्थित है. .

लेकिन ब्रिगेड के कमांडर स्तर की बैठकें पहले ही चुशूल और मोल्डो में आयोजित की जा चुकी हैं ताकि मामले को सुलझाया जा सके, लेकिन इसका कोई परिणाम नहीं निकला है.

Share & Get Rs.
error: Content is protected !!