Saturday , September 26 2020 22:27
Breaking News

भारत को लेकर नेपाल के विदेश मंत्री ने दिया ये बड़ा बयान, कहा अगर हमसे टकराएँगे तो…

प्रदीप ज्ञवाली ने कहा कि नेपाल और भारत के बीच जो सीमा विवाद है उसे प्राथमिकता से सुलझाना चाहिए. जब तक ये सुलझ नहीं जाता है, तब तक हमें ये मुद्दा परेशान करता रहेगा.

हम नहीं चाहते कि इसकी वजह से सब कुछ रुका रहे. भारत के साथ हमारा कई मोर्चों पर संबंध है और हमारी कोशिश यही है कि इन संबंधों को पटरी पर रखते हुए सीमा विवाद का हल निकालें.नेपाल के लिए लिपुलेख और कालापानी का मुद्दा काफ़ी अहम है, क्योंकि यह हमारी संप्रभुता और अखंडता से जुड़ा है.

एक इंटरव्यू में प्रदीप ज्ञवाली ने भारत-नेपाल सीमा विवाद से जुड़े मुद्दों पर भी राय रखी. उन्होंने कहा कि आयुर्वेद, योग, ज्योतिष भारत और नेपाल दोनों देशों के लिए समान हैं. दोनों देशों की साझी संस्कृति लोगों के बीच के आपसी संबंधों को मज़बूत बनाती है.

ज्ञवाली ने स्पष्ट कहा कि दोनों देशों के रिश्तों उतार-चढ़ाव आते रहते हैं लेकिन इससे हमारे संबंध और मजबूत ही हुए हैं. संविधान के धर्मनिरपेक्ष होने के सवाल पर उन्होंने कहा कि नेपाल के संविधान में क्या होगा और क्या नहीं होगा.

यह तो नेपाल के लोग ही तय करेंगे. संसद और नेपाल की जनता को तय करना था कि हम सेक्युलर देश बनें या नहीं. नेपाल के बारे में कोई और फ़ैसला तो कर नहीं सकता.

नेपाल के विदेश मंत्री प्रदीप ज्ञवाली ने एक इंटरव्यू में कहा है कि भारत और नेपाल में बड़ी संख्या में हिंदू रहते हैं ये दो देशों के बीच के कूटनीतिक रिश्तों का आधार नहीं हो सकता.

उन्होंने कहा कि धर्म को न तो देश के आंतरिक मामले में लाना चाहिए और न ही दूसरे देश के साथ संबंधों के बीच में लाना चाहिए. हालांकि ज्ञवाली ने माना कि सांस्कृतिक समानता दोनों देशों के संबंधों को मज़बूत बनाने वाली सबसे अहम कड़ी है.

Share & Get Rs.
error: Content is protected !!