Monday , October 26 2020 8:49
Breaking News

तनातनी के बीच चीन पर छोड़ी इस देश ने मिसाइल, चारों खाने चित्त, निकला…

डियागो गार्सिया में महाघातक बॉम्बर B2 स्प्रिट स्टील्थ की तैनाती से अमेरिका ने चीन और ईरान को एक साथ सख़्त संदेश दे दिया है। क्योंकि ईरान-चीन और रूस के बीच सैन्य सहयोग तेज़ी से बढ़ने लगा है।

तनातनी के बीच चीन पर छोड़ी इस देश ने मिसाइल, चारों खाने चित्त, निकला...

ये तीसरे विश्वयुद्ध की मोर्चेबंदी है और दूसरी तरफ ईरान और अमेरिका के बीच टेंशन हर लिमिट को क्रॉस कर चुकी है। बी-टू बॉम्‍बर जैसे अजेय विमान का डियागो गार्सिया जैसी जगह पर तैनाती का मतलब है कि यहां से अमेरिका चीन और ईरान दोनों को कंट्रोल कर सकता है।

3 B-2 बॉम्बर डियागो गार्सिया में तैनात 50 हज़ार फीट ऊंचाई से हमले में सक्षम 11,000 किमी. तक मार करने की क्षमता एक रिफ्यूलिंग पर 19,000 किमी. तक हमला एक साथ 16 बी 61-7 परमाणु बम ले जाने में सक्षम परमाणु रडार की पकड़ में नहीं आता चुपके से हमले को अंजाम देने में सक्षम हवाई डिफेंस को चकमा दे सकता है दुनिया का सबसे कारगर परमाणु बॉम्बर

चीन और ईरान इस समय मिलकर रूस के साथ युद्ध अभ्‍यास करने की योजना बना रहा है, जिसके बाद इन दोनों देशों को लग रहा है कि शायद वह अमेरिका को टक्‍कर दे सकते हैं। ऐसे में अमेरिका ने B2 स्ट्रील्थ बॉम्बर्स को चीन की आंखों के सामने हिंद महासागर में बने डियागो गार्सिया एयरबेस में भी तैनात किया है।

एक तरफ ताइवान स्ट्रेट और साउथ चाइना सी में चीन से टेंशन और दूसरी तरफ मिडिल ईस्ट में नया रण तैयार हो रहा है, लेकिन ट्रंप के एक अटैक ने चीन और ईरान को चारों खाने चित्त कर दिया है। ट्रंप ने अपना ब्रह्मास्त्र निकाल लिया है और उसे चीन और ईरान के बिल्कुल बीचों बीच तैनात कर दिया है।

 

 

 

Share & Get Rs.
error: Content is protected !!