‘शाहरुख खान ने ‘कभी अलविदा ना कहना’ में की मेरी भूमिका की नकल’, PAK कलाकार तौकीर नासिर का दावा

पाकिस्तानी ड्रामा इंडस्ट्री के वरिष्ठ अभिनेता तौकीर नासिर ने कथित तौर पर दावा किया है कि बॉलीवुड सुपरस्टार शाहरुख खान ने अपनी एक फिल्म में उनके काम की नकल की है और उन्हें श्रेय नहीं दिया है। अभिनेता नासिर ने हाल ही में इस्लामाबाद में पाकिस्तान राष्ट्रीय कला परिषद (पीएनसीए) के महानिदेशक के रूप में काम किया है और उन्हें प्राइड ऑफ पाकिस्तान, तमगा-ए-इम्तियाज और सर्वश्रेष्ठ अभिनेता सहित कई प्रतिष्ठित पुरस्कारों से सम्मानित किया गया है। अब अभिनेता ने किंग खान द्वारा उनके स्वयं के योगदान के लिए उचित श्रेय नहीं दिए जाने के कारण मान्यता न मिलने पर अपनी निराशा व्यक्त की है।

PAK कलाकार तौकीर नासिर का दावा
यूट्यूब चैनल “जबरदस्त विद वसी शाह” पर दिए गए एक इंटरव्यू में तौकीर नासिर ने बताया कि शाहरुख खान अक्सर उनके काम की तारीफ करते थे और कई लोगों को शुभकामनाएं भेजते थे। उन्होंने कहा, “शाहरुख खान एक प्रतिभाशाली अभिनेता हैं, लेकिन उनके द्वारा मेरे योगदान को मान्यता न मिलना निराशाजनक है।”

शाहरुख ने नहीं दिया श्रेय
जब उनसे उस फिल्म के बारे में पूछा गया, जिसमें शाहरुख खान ने कथित तौर पर उनके काम की नकल की थी, तो नासिर ने दावा करते हुए कहा, “फिल्म ‘कभी अलविदा ना कहना’ में शाहरुख की भूमिका ड्रामा ‘परवाज’ में उनके किरदार की सीधी नकल थी”। उन्होंने कहा, “यहां तक कि फिल्म में दिखाए गए घायल पैर का सीन भी ड्रामा में मेरी भूमिका से उधार लिया गया था।”

करण जौहर को भी लिया आड़े हाथों
तौकीर नासिर ने कहा, “‘कभी अलविदा ना कहना’ मूल रूप से ‘परवाज’ की कहानी पर आधारित थी, जिसे प्रसिद्ध लेखक मुस्तनसर हुसैन तरार ने लिखा था। शाहरुख खान को अपनी प्रेरणा के लिए उचित श्रेय देना चाहिए था।” नासिर एक कदम आगे निकल गए और उन्होंने फिल्म निर्माता करण जौहर को भी अपनी प्रेरणा के लिए उन्हें और मुस्तनसर हुसैन तरार को श्रेय न देने के लिए आड़े हाथों लिया। “कभी अलविदा ना कहना” साल 2006 में रिलीज हुई एक रोमांटिक ड्रामा है।