Breaking News

गर्भवती महिलाओं को भूल से भी नहीं करना चाहिये इस सब्जी का सेवन, बच्चे को हो सकता है नुकसान

Loading...

ये तो आप अब जानते ही हैं कि बैंगन हमारे घर मे खाने पकाने के काम मे आता है, बैंगन का भुरता तो सबसे लाजवाब होता है बैंगन एक सदाबहार सब्जी है और हमेशा उपलब्ध रहती है। सर्दी के मौसम में इसे खाना फायदेमंद होता है। इसमें कई ऐसे लाभदायक पोषक तत्व होते हैं जो अन्य सब्जी में नहीं होते। लेकिन कुछ लोगों को बैंगन खाने से दिक्कत हो सकती है।बता दे कि बैंगन का सेवन सेहत के लिए बहुत ही लाभकारी होता है। लेकिन जब इसका सेवन अधिक मात्रा में करते हैं तो सेहत को बहुत नुकसान पहुंचता है। आज की इस पोस्ट में हम आपको उन लोगों के बारे में बताने जा रहे हैं जिनके लिए बैंगन किसी जहर से कम नहीं हैं।

बैगन के नुकसान

Loading...

– गर्भवती महिलाओं को बहुत अधिक बैंगन खाने की सलाह नहीं दी जाती है,और जिन महिलाओं को खून की कमी हो उन्हें बैंगन का उपयोग अधिक मात्रा में नहीं करना चाहिए , विशेषकर माहवारी के समय। इसके अलावा नकसीर या खुनी बवासीर की समस्या से ग्रस्त या अक्सर रक्तदान करने वाले व्यक्ति को भी ज्यादा बैगन नहीं खाने चाहिए।

-बैंगन में पाया जाने वाला नेनूसिन ही विशेष परिस्थिति में नुकसानदायक भी साबित हो सकता है। यह तत्व आयरन का कीलेशन कर सकता है। शरीर से धातु तत्व को निकालने की प्रक्रिया को कीलेशन कहते हैं। अर्थात यह शरीर से लोह तत्व को निकालकर कम कर सकता है।

-अगर आप एंटी डिपेटेंट ड्रग्स (अवसाद रोधी) पर हैं, तो आपको बैंगन खाने से बचना चाहिए क्योंकि यह आपकी दवाओं के साथ प्रतिक्रिया कर सकता है।

-बैंगन में ओक्जेलेट पाया जाता है अतः किडनी में पथरी की शिकायत वाले लोगों को इसे कम मात्रा में खाना चाहिए। ओक्जेलेट के कारण कैल्शियम का अवशोषण भी कम होता है। कैल्शियम की कमी से हड्डी और दांत कमजोर हो सकते हैं।

-नेनुसिन के कारण नई रक्तशिरा बनने में बाधा उत्पन्न होने की प्रक्रिया गर्भावस्था में बढ़ते भ्रूण के लिए हानिकारक हो सकती है।

अधिक चोट को भरने के लिए तथा बढ़ते बच्चों में भी नई रक्त शिराएँ बनती है। ऐसे में यह तत्व नुकसान देह साबित हो सकता है। अतः गर्भावस्था में महिलाओं को , बच्चों को तथा अधिक चोट लगे व्यक्ति को बैगन का ज्यादा उपयोग नहीं करना चाहिए।

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!