Saturday , March 28 2020 19:30
Breaking News

शाहीन बाग को लेकर सरकार ने किया ऐसा, कहा फौरन हो जाना चाहिए ये…

Loading...

नागरिकता कानून के विरोध में सैंकड़ों लोग, विशेषकर महिलाएं दिल्ली के शाहीनबाग में डेरा डाले हुए हैं, जिनके प्रदर्शन की वजह से एक मुख्य मार्ग अवरुद्ध हो गया है.

 

जिसके कारण शहर में यातायात की परेशानी पैदा हो गई है। बार-बार के आग्रहों के बाद भी प्रदर्शनकारी धरनास्थल से हटने को तैयार नहीं हैं।

महिला प्रदर्शनकारियों के एक वर्ग ने कहा कि उनके द्वारा लगाए गए तम्बू ने स्थल को ‘न्याय और समानता के लिए युद्ध के मैदान’ के रूप में परिभाषित किया गया है।

बताया जा रहा है कि अगर सरकार सीएए पर चर्चा कर ले तो शाहीनबाग फौरन खाली हो सकता है। उन्होंने कहा कि वे वहां से जाने के विचार से विचलित नहीं हैं, लेकिन वे पहले सीएए पर सरकार के साथ विस्तृत बातचीत करना चाहते हैं।

Loading...

बाटला हाउस का निवासी शाहीदा खान ने कहा, हमने 15 दिसंबर को अपना विरोध प्रदर्शन शुरू किया था, जब जामिया मिलिया इस्लामिया में छात्रों को पुलिस द्वारा बुरी तरह से पीटा गया था। हमें स्थानांतरण से बहुत खुशी नहीं होगी, लेकिन चूंकि यह अदालत का फैसला है, इसलिए हम इसे स्वीकार करेंगे।

शाहीनबाग के प्रदर्शनकारियों को दूसरे स्थल पर जाने के लिए मनाने के लिए सुप्रीम कोर्ट ने दो वार्ताकारों की नियुक्ति कर दी है।

सुप्रीम कोर्ट की इस व्यवस्था से प्रदर्शनकारी निराश हुए हैं। हालांकि, उनका मानना है कि CAA पर असहमति को लेकर सरकार से बातचीत ही अंतिम रास्ता है।

 

Share & Get Rs.
Loading...
error: Content is protected !!