Wednesday , September 23 2020 22:33
Breaking News

भारत ने बनाई देसी कोरोना वैक्सीन , बंदरों पर हुआ परीक्षण, निकला…

एक रिपोर्ट में कहा गया कि भारत बायोटेक ने दूसरे दौर के क्लीनिकल ट्रायल को लेकर सबजेक्ट कमेटी (SEC) को चिट्टी लिखी है। DCGI के डॉक्टर एस ऐश्वर्या रेड्डी ने इसके जवाब में 380 लोगों पर ट्रायल करने का सुझाव दिया है।

 

बता दें कि किसी भी वैक्सीन में आमतौर पर तीन फेज में क्लीनिकल ट्रायल होते हैं। पहले फेज में ये पता लगाया जाता है कि क्या इसके इस्तेमाल से लोगों को कोई साइड इफ्केट तो नहीं हो रहा?

भारत बायोटेक ने पहले फेज में 12 शहरों में वैक्सीन के ट्रायल किए है। इस दौरान इसमें 375 लोगों ने हिस्सा लिया। बता दें कि भारत में इस वक्त तीन वैक्सीन पर काम चल रहा है।

गुजरात की कंपनी जायडस कैडिला हेल्थ केयर लिमिटेड और सीरम इंस्टिट्यूट पूणे दूसरे दौर का क्लीनकल ट्रायल पहले ही शुरू कर चुकी है। सीरम इंस्टिट्यूट ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की तरफ से तैयार किए जा रहे वैक्सीन की ट्रायल भारत में कर रहा है।

भारत बायोटेक ने एक बयान में कहा कि बंदरों पर स्‍टडी के नतीजों से वैक्‍सीन की इम्यनोजनिसिटी यानी प्रतिरक्षा का पता चलता है। भारत बायोटेक ने मकाका मुलाटा प्रजाति के खास तरह के बंदरों को वैक्‍सीन की डोज दी थी।

कंपनी ने बीते दिनों ह्यूमन ट्रायल का पहला फेज पूरा किया और अब दूसरे दौर के लिए DCGI से अनुमति मांगी है। माना जा रहा है कि कुछ ही दिनों में द्वितीय चरण का ट्रायल भी शुरू हो जाएगा।

कोरोना वैक्सीन बनाने वाली देसी कंपनी भारत बायोटेक को बड़ी सफलता मिलती है। कंपनी ने कोविड-19 वैक्सीन कोवाक्सिन का जानवरों पर परीक्षण सफल रहने का ऐलान किया है।

 

 

 

 

Share & Get Rs.
error: Content is protected !!