Saturday , September 19 2020 10:45
Breaking News

भारत-चीन के बीच बना युद्ध का महौल , चेतावनी देने के लिए गोलियां, बिगड़े सकते हालात…

सेना ने आगे कहा था कि सात सितंबर के ताजा मामले में, पीएलए के सैनिकों ने एलएसी के पास हमारे एक अग्रिम ठिकाने तक आने की कोशिश की और जब हमारे सैनिकों ने उन्हें रोका तो उन्होंने भारतीय सैनिकों को डराने के प्रयास में हवा में कुछ राउंड गोलियां चलाईं।

 

भारतीय सेना ने पीएलए के आरोपों को खारिज करते हुए कहा था कि उसने कभी वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पार नहीं की या गोलीबारी समेत किसी आक्रामक तरीके का इस्तेमाल नहीं किया।

सेना ने कहा, ‘यह पीएलए है जो समझौतों का खुलेआम उल्लंघन कर रहा है और आक्रामकता अपना रहा है जबकि सैन्य, कूटनीतिक एवं राजनीतिक स्तर पर बातचीत जारी है।’

भारतीय सेना के सूत्रों ने बताया कि रेजांग ला में दोनों देशों के जवानों के आमने-सामने आने के बाद भी दोनों पक्षों में तनाव को कम करने के लिए बातचीत जारी है।

इससे पहले, पीएलए ने सोमवार देर रात को आरोप लगाया था कि भारतीय सैनिकों ने एलएसी पार की और पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के पास चेतावनी देने के लिए गोलियां चलाईं। चीन के इस दावे को भारत ने सिरे से खारिज कर दिया था।

पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर मई महीने से जारी भारत-चीन के बीच तनाव बढ़ता जा रहा है। चीनी सैनिक लगातार घुसपैठ की कोशिश कर रहे हैं.

जबकि भारतीय जवान ड्रैगन की कोशिशों को नाकाम कर दे रहे। पूर्वी लद्दाख की रेजांग ला में पीएलए (चीनी सेना) ने एक बार फिर से घुसपैठ की कोशिश की। इस दौरान पीएलए के 40-50 सैनिकों की मौजूदगी थी।

LAC पर चाइना व हिंदुस्तान के विवाद की स्थिति है। हाल ही में मॉस्को में दोनों राष्ट्रों के रक्षामंत्रियों के बीच ढाई घंटे की मीटिंग हुई थी जिसमें गलवान व लद्दाख को लेकर गहन चर्चा हुई थी।

बैठक के तुरंत बाद ही चाइना ने सीमा पर तनाव के दशा के लिए हिंदुस्तान को जिम्मेदार ठहराया था व अब ड्रैगन ने अरुणाचल प्रदेश को लेकर दावा किया है।

चाइना के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजिन (Zhao Lijian) ने सोमवार (7 सितंबर) को बयान जारी कर कहा, ”चीन ने कभी अरुणाचल प्रदेश को मान्यता नहीं दी है जो चाइना का ‘दक्षिणी तिब्बत’ क्षेत्र है। ” लिजिन ने यह बात चीनी अखबार (Global Times newspaper) के हवाले से कही है।

 

 

Share & Get Rs.
error: Content is protected !!