बिम्सटेक के विदेश मंत्रियों के सम्मेलन की शुरुआत, सुरक्षा-व्यापार में सहयोग बढ़ाने पर होगा फोकस

नई दिल्ली:  बिम्सटेक के विदेश मंत्रियों के सम्मेलन की आज शुरुआत हो रही है। नई दिल्ली में 11-12 जुलाई को आयोजित किए जा रहे इस सम्मेलन की अध्यक्षता भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर करेंगे। इस सम्मेलन के लिए श्रीलंका के विदेश मंत्री थराका बालासूर्या गुरुवार सुबह दिल्ली पहुंच गए। बिम्सटेक के विदेश मंत्रियों का यह दूसरा सम्मेलन है, इससे पहले बीते साल थाईलैंड में बिम्सटेक के विदेश मंत्रियों की पहली बैठक हुई थी।

विदेश मंत्रालय ने जारी किया बयान
विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा कि ‘सम्मेलन में बिम्सटेक के विदेश मंत्री आपसी सहयोग बढ़ाने, सुरक्षा, कनेक्टिविटी, व्यापार और निवेश के साथ ही सदस्य देशों को लोगों से लोगों के संपर्क बढ़ाने पर चर्चा करेंगे।’ नई दिल्ली में आयोजित हो रहे बिम्सटेक सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए थाईलैंड के विदेश मंत्री मारिस संगियामपोंगसा, नेपाल के विदेश मंत्री सेवा लामसाल, भूटान के विदेश मंत्री डीएन धुंग्येल, म्यांमार के उप प्रधानमंत्री और विदेश मंत्री यू थान स्वे भी दिल्ली पहुंच चुके हैं।

क्या है बिम्सटेक
बिम्सटेक (Bay of Bengal Initiative for multi sectoral Technical and Economic Cooperation) एक क्षेत्रीय संगठन है, जिसमें भारत के अलावा श्रीलंका, बांग्लादेश, म्यांमार, थाईलैंड, नेपाल और भूटान शामिल हैं। विदेश मंत्रियों के सम्मेलन में समुद्री परिवहन सहयोग पर समझौते पर हस्ताक्षर किए जाने की संभावना है। इससे सदस्य देशों के बीच व्यापार को बढ़ावा मिलेगा।