Breaking News

बुरे समय में अज्ञान की वजह से हम अक्सर दूसरों को गलत समझते हैं

Loading...

एक लोक कथा के अनुसार पुराने समय में एक जौहरी की आर्थिक स्थिति बहुत बेकार थी. उसके घर में पत्नी  एक बच्चा था. पैसों की तंगी की वजह से जौहरी बहुत परेशान रहने लगा था  एक दिन उसकी मौत हो गई.

  • जौहरी की मौत के बाद उसकी पत्नी ने अपने बेटे को हीरों का पराजय दिया  बोला कि इसे अपने हीरों के व्यापारी चाचा की दुकान पर बेच दो, इससे जो पैसा मिलेगा, वह हमारे कार्य आएगा. लड़का तुरंत ही पराजय लेकर अपने चाचा की दुकान पर पहुंच गया. चाचा ने पराजय देखा  बोला कि बेटा अभी मार्केट मंदा चल रहा है, इस पराजय को बाद में बेचना. तुम्हें पैसों की आवश्यकता है तो अभी मुझसे ले लो  मेरे यहां कार्य करना प्रारम्भ कर दो. लड़के ने चाचा की बात मान ली.
  • अगले दिन से लड़का अपने चाचा की दुकान पर कार्य करने लगा. धीरे-धीरे उसे भी हीरों की अच्छी परख हो गई. वह तुरंत ही वास्तविक  नकली हीरे को पहचान लेता था. एक दिन उसके चाचा ने बोला कि अभी मार्केट बहुत अच्छा चल रहा है, तुम अपना हीरों का पराजय बेच सकते हो. लड़का अपनी मां से वह पराजय लेकर दुकान आ गया  चाचा को दे दिया.
  • उसके चाचा ने बोला कि अब तो तुम खुद भी हीरों की परख कर लेते हो, इस पराजय को देखकर इसकी मूल्य का अंदाजा लगा सकते हो. इसीलिए तुम खुद इस पराजय की परख करो. लड़के ने पराजय को ध्यान से देखा तो उसे मालूम हुआ कि पराजय में नकली हीरे लगे हैं  इसकी कोई मूल्य नहीं है. उसने चाचा को पूरी बात बताई.
  • चाचा ने बोला कि मैं तो प्रारम्भ से जानता हूं कि ये हीरे नकली हैं, लेकिन अगर मैं उस दिन तुम्हें ये बात कहता तो तुम मुझे ही गलत समझते. तुम्हें यही लगता कि मैं ये पराजय हड़पना चाहता हूं, इसीलिए इसे नकली बता रहा हूं. तुम्हें उस समय हीरों का कोई ज्ञान नहीं था. बुरे समय में अज्ञान की वजह से हम अक्सर दूसरों को गलत समझते हैं.

 

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!