Breaking News

मैनचेस्टर यूनिवर्सिटी में महात्मा गांधी की मूर्ति को लेकर हो रहा विरोध

Loading...
 राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की मूर्तियां देश ही नहीं विदेशों में भी जगह-जगह पर दिखाई देती हैं गांधी जी को अहिंसा के पुजारी के तौर पर दुनियाभर में देखा जाता है हालांकि अब ब्रिटेन (UK) की मैनचेस्टर यूनिवर्सिटी (Manchester University) में महात्मा गांधी की मूर्ति को लेकर विरोध होने लगा है यूनिवर्सिटी के विद्यार्थियों ने ‘मैनचेस्टर कैथेड्रल’ के बाहर महात्मा गांधी की मूर्ति लगाए जाने के प्रस्ताव के विरूद्ध एक अभियान प्रारम्भ किया है बताते चलें कि लोकल अधिकारियों ने गांधी की मूर्ति लगाए जाने को मंजूरी दी है लेकिन, इसका विरोध कर रहे विद्यार्थियों का बोलना है गांधी नस्लवादी थें

की मूर्ति लगाए जाने का विरोध कर रहे विद्यार्थियों ने ‘गांधी मस्ट फॉल’ अभियान प्रारम्भ किया है विश्वविद्यालय के विद्यार्थी संघ ने मैनचेस्टर नगर परिषद को लिखे एक ओपन पत्र में महात्मा गांधी की नौ फुट ऊंची कांसे की मूर्ति लगाए जाने के फैसला पर पुनर्विचार करने को बोला है

महात्मा गांधी की मूर्ति लगाए जाने का विरोध कर रहे विद्यार्थियों ने ‘गांधी मस्ट फॉल’ अभियान प्रारम्भ किया है

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों द्वारा सोशल मीडिया पर चलाए जा रहे अभियान के दौरान एक पोस्ट में महात्मा गांधी को, ‘एंटी-ब्लैक नस्लवादी’, बताया गया है इस पत्र में मैनचेस्टर कैथेड्रल के बाहर 25 नवंबर को मूर्ति लगाने के प्रोग्राम को रद्द करने के लिए मैनचेस्टर सिटी काउंसिल से मांग की गई है

विद्यार्थियों का आरोप है कि अफ्रीका में ब्रिटिश शासन की कार्रवाईयों में गांधी की भागीदारी थी लेटर में बोला गया है कि महात्मा गांधी ने अफ्रीकियों को, ‘असभ्य’ ‘आधे-अधूरे मूल निवासी’, ‘जंगली’, ‘गंदे’  ‘पशु जैसे’ के रूप में अपनी कुछ टिप्पणियों में संदर्भित किया था
ब्रिटेन में कई जगहों पर राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की मूर्तियां लगी हुई हैं

बता दें कि गांधी जी की यह मूर्ति अगले महीने लगने वाली है  इसके शिल्पकार राम वी सुतार हैं इस वर्ष को गांधी जी की 150 वीं जयंती के रूप में मनाया जा रहा है विद्यार्थी संघ की लिबरेशन एवं एक्सेस ऑफिसर सारा खान ने नगर परिषद से अनुमति वापस लेने की मांग की है वहीं, परिषद के प्रवक्ता ने बोला कि गांधी की मूर्ति लगाने का मुख्य मकसद शांति, प्यार  भाईचारे के उनके संदेश का प्रसार करना है

Loading...

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!