Breaking News

आसाराम के बेटे नारायण साईं की पत्नी ने ससुर और पति के खिलाफ किया खुलासा बताया मेरे साथ भी कई बार

नारायण साईं की पत्नी 38 वर्षीय जानकी ने खजराना पुलिस थाने में दर्ज कराई शिकायत में कहा कि नारायण हरपलानी (नारायण साईं का असली नाम) से उनकी शादी 22 मई 1997 को हुई थी, लेकिन विवाह बंधन में बंधने के बाद भी उनके पति ने उनकी निगाहों के सामने कई महिलाओं से नाजायज ताल्लुकात कायम किए। इससे उन्हें मानसिक प्रताड़ना झेलनी पड़ी।

आसाराम के बेटे नारायण साईं की पत्नी ने अपने ससुर और पति के खिलाफ प्रताड़ना के गंभीर आरोप लगाते हुए पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। इसके साथ ही, उन बाप-बेटे के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करने की गुहार की, जो इस वक्त दूसरे मामलों में अलग-अलग जेलों में बंद हैं।

loading...

उन्होंने यह आरोप भी लगाया, ‘मेरे पति ने हमेशा धर्म के नाम पर ढोंग किया है। मेरे पति ने सबसे ज्यादा घोर अपराध यह किया है कि उन्होंने अपने आश्रम की एक साधिका से अवैध संबंध बनाए। जब यह साधिका गर्भवती हो गई, तो उन्होंने (नारायण ने) मुझसे कहा कि वह दूसरी शादी करना चाहते हैं।’

जानकी ने आरोप लगाया कि जब उन्होंने नारायण से कहा कि वह उन्हें तलाक देकर दूसरी शादी कर सकते हैं, तो उनके पति ने उन्हें बताए बगैर ही इस साधिका से राजस्थान में दूसरी शादी कर ली और इस महिला से उन्हें एक ‘नाजायज संतान’ भी है

उन्होंने पुलिस में दर्ज करायी शिकायत में आसाराम पर आरोप लगाया कि वह भी उन पर ‘गंभीर दबाव’ बनाते थे। इसके साथ ही, उनके पिता देवराज कृष्णानी ने आसाराम के कथित प्रभाव और दबाव में आकर अपनी कई बेशकीमती संपत्तियां इस स्वयंभू संत के भोपाल स्थित आश्रम को दान में दे दी थीं। कृष्णानी का निधन हो चुका है।

खजराना पुलिस थाने के सब इंस्पेक्टर श्याम किशोर त्रिपाठी ने आसाराम और नारायण के खिलाफ जानकी की शिकायत दर्ज करने की पुष्टि की है। त्रिपाठी ने कहा, ‘हम इस शिकायत पर जांच के बाद उचित कानूनी कदम उठाएंगे।’

पुलिस थाने में शिकायत दर्ज कराने के बाद जानकी ने संवाददाताओं से कहा, ‘जब मैं दूसरी महिलाओं से अपने पति के अवैध संबंधों पर आपत्ति जताती थी, तो वह मुझे धमकाते हुए खामोश रहने को कहते थे।’

पिछले कुछ समय से नारायण साईं से अलग रह रहीं जानकी ने बताया कि उन्होंने अपने पति के खिलाफ घरेलू हिंसा और भरण-पोषण के अलग-अलग मामले स्थानीय अदालतों में पहले से दायर कर रखे हैं। उन्होंने कहा, ‘मेरे परिजन और रिश्तेदारों को फोन पर धमकियां देकर कहा जा रहा है कि ये मामले वापस ले लिए जाएं।’ हालांकि, उन्होंने इस बात का खुलासा नहीं किया कि ये धमकियां कौन लोग दे रहे हैं।

जानकी के वकील रोहित यादव ने बताया कि इन धमकियों के मद्देनजर उनकी मुवक्किल ने पुलिस को आवेदन देकर सुरक्षा प्रदान करने की गुहार की है। पुलिस ने इस गुहार का संज्ञान लेते हुए जानकी का बयान भी दर्ज किया है।

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!