Breaking News

बिना किसी गर्भनिरोधक मिलेगी 1 साल की फुर्सत, अपनाये ये छोटा सा रिंग और देखे कमाल

अक्सर लोग असुरक्षित योन संबंधो और अनचाहे गर्भ से बचने के लिए कई तरह की चीजों का सहारा लेते है। और हाल ही में अनुसंधानकर्ताओं ने ऐनोवेरा नाम का एक बेहद असरदार गर्भनिरोधक वजाइनल रिंग विकसित किया है

जिसे खुद ही बड़ी आसानी से वजाइना में इंसर्ट किया जा सकता है और यह अनचाही प्रेग्नेंसी से बचाने में काफी कारगर माना जा रहा है। इस एक रिंग का इस्तेमाल पूरे 1 साल तक किया जा सकता है। इस रिंग से जुड़ी डीटेल्स और उसके बारे में अहम बातें इन्डोक्राइन सोसायटी की वार्षिक मीटिंग में रखी गई थी।

loading...

इस गर्भनिरोधक रिंग को वजाइना में 21 दिनों के लिए रखा जाता है और हर महीने मेन्स्ट्रूअल साइकल शुरू होते ही 7 दिन के लिए निकाल दिया जाता है। यह स्पेशल रिंग आपके पीरियड्स के 13 साइकल तक यानी पूरे 1 साल तक अनचाहे गर्भ से सुरक्षा प्रदान करती है। इस रिंग को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि यह गर्भनिरोधक के लिए इस्तेमाल होने वाली दवा सेजेस्टेरॉन एसिटेट की 150 एमसीजी और प्रेग्नेंसी रोकने में इस्तेमाल होने वाली दवा एथिनाइल एस्ट्राडिओल की 13 एमसीजी रिलीज करती है।

यह रिंग जिस रेट से अपनी दवा रिलीज करती है उस हिसाब से 1 साल में 100 महिलाओं में से सिर्फ 3 महिलाओं में अनचाहा गर्भ ठहरने की आशंका रहती है। सेजेस्टेरॉन एसिटेट एक नया प्रोजेस्टिन है जो खासतौर पर प्रोजेस्टेरॉन रिसेप्टर्स को बांधकर रखता है। दूसरे कॉम्बिनेशन वाले हॉर्मोन बर्थ कंट्रोल प्रॉडक्ट्स की तुलना में यह रिंग सेक्स हॉर्मोन को बांधकर नहीं रखता और ना ही इसकी कोई एस्ट्रोजेनिक या एन्ड्रोजेनिक ऐक्टिविटी है।

इससे पहले हुई रिसर्च और स्टडी में मिले क्लिनिकल ट्रायल के डेटा की जांच कर अनुसंधानकर्ताओं ने इस बात की खोज की कि आखिर कितने समय तक सेजेस्टेरॉन किसी महिला के खून में रहता है और इसका लेवल क्या होता है। सेजेस्टेरॉन एसिटेट सीरम शुरुआती ट्रायल में ऑव्यूलेशन को रोकने में सफल रहा। इस गर्भनिरोधक रिंग का सक्सेस रेट 97 प्रतिशत है और यह मार्केट में इस वक्त मौजूद सबसे बेहतर और असरदार गर्भनिरोधक तरीकों की तुलना में ज्यादा असरदार है क्योंकि मार्केट में मौजूद बाकी के गर्भनिरोधक सिर्फ 95 प्रतिशत ही असरदार हैं।

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!