Breaking News

जमाल खशोगी के बच्चों को सऊदी सरकार की ओर से मिले लाखों डॉलर के घर

अमेरिकी नागरिक और सऊदी पत्रकार जमाल खशोगी के बच्चों को सऊदी सरकार की ओर से लाखों डॉलर के घर मिले हैं। इसके अलावा खशोगी के बच्चों को उनके पिता की मौत के मुआवजे के रूप में पैसे भी मिलते हैं। इस बात की जानकारी सऊदी के वर्तमान एवं पूर्व अधिकारी और परिवार से जुड़े सूत्रों ने दी है।

पहचान ना बताने की शर्त पर अधिकारियों ने कहा कि खशोगी के दो बेटों और दो बेटियों को ‘ब्लड मनी’ को तौर पर भारी मात्रा में पैसे दिए जाते हैं। खशोगी के हत्यारों का ट्रायल इस महीने के अंत तक खत्म हो जाएगा।

अधिकारियों के मुताबिक बिना घोषित किए खशोगी के परिवार को पैसे देने का उद्देश्य ये हो सकता है कि वह अपने पिता की हत्या को लेकर जो बयान दें, उनसे सऊदी को नुकसना ना हो। खशोगी के बच्चों ने सऊदी की आलोचना से भी अभी तक परहेज किया है। जबकि उनके पिता की मौत की विश्वभर में आलोचना की गई, यहां तक कि कई लोगों द्वारा इस मामले में सऊदी के राजकुमार मोहम्मद बिन सलमान को ही दोषी माना जाता है।

loading...

राजकुमार सलमान द्वारा बीते साल खशोगी के हर एक बच्चे को 10 हजार डॉलर प्रति माह देने और घर देने का फैसला किया गया था। अधिकारियों ने बताया कि ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि बच्चों के साथ अन्याय किया गया है और अब गलत को सही करने की कोशिश हो रही है। इसका मतलब ये कि दुनियाभर में हो रही अपनी निंदा को कम करने के लिए सऊदी अपने धन का उपयोग कर रहा है।

खशोगी वाशिंगटन पोस्ट के लिए स्तंभ लिखते थे। उन्होंने सऊदी अरब के राजकुमार सलमान के शासन और उनके बेटे मोहम्मद बिन सलमान के खिलाफ भी कई लेख लिखे थे। उनकी इस्तांबुल स्थित सऊदी दूतावास में 2 अक्तूबर को हत्या कर दी गई थी। ये हत्या सऊदी के 15 सदस्यीय दल ने की थी, जिन्हें रियाद से भेजा गया था। खशोगी का शव कभी बरामद नहीं किया जा सका।

सऊदी अरब ऐसा काफी पहले से करता आ रहा है, वह घृणा अपराध के पीड़ितों और प्राकृतिक आपदा के पीड़ितों की आर्थिक मदद करता है। यह सऊदी की प्रथा और संस्कृति है। खशोगी के प्रत्येक बच्चे को चालिस लाख डॉलर का घर जेद्दाह में दिया गया है।

खशोगी का सबसे बड़ा बेटा सालह खशोगी एक बैंकर है। वह सऊदी में ही रहता है। जबकि उसके भाई-बहन अमेरिका में रहते हैं और अपनी सऊदी की संपत्ति बेच चुके हैं। माना जा रहा है कि सालह ने ही सऊदी सरकार से इस वित्तीय मदद के लिए बातचीत की थी।

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!