Breaking News

आखिर क्यों आपकी माहवारी के दौरान पेट खराब हो जाता है, जानिए पूरा सच

क्या आपने कभी सोचा है कि आपकी माहवारी के दौरान ऐंठन, मतली, सूजन, पेट फूलने के अलावा आपका पेट भी क्‍यों खराब हो जाता है? क्यों सारी बुरी चीजें एक साथ ही होनी होती हैं?


यहां वह जवाब है जिसे आपको जानना चाहिए।

loading...

मैं बहुत पहले ही बता देना चाहती हूं कि गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्‍याओं और मासिक धर्म प्रक्रियाओं के बीच सम्‍बंध होने का कारण अभी भी पूरी तरह से समझा नहीं गया है, और वैज्ञानिकों ने अब तक जो समझा है, वह केवल बारीकी से अनुमान लगाने और संबंध जोड़ने का प्रयास भर है।

माहवारी चक्र के हार्मोन

माहवारी चक्र एक महिला के प्रजनन चक्र में हार्मोन्‍स द्वारा सावधानीपूर्वक क्रियान्‍वित की गई संतुलित गतिविधि का परिणाम है। एस्ट्रोजेन ओव्यूलेशन की सुविधा देता है, और इसके बाद, अगर गर्भाधान होता है तो जाइगोट के लिए तैयारी करने में गर्भाशय की परत को मोटा करने के लिए प्रोजेस्टेरोन अपना काम करता है। फिर माहवारी को चालू करने के लिए, इस प्रोजेस्टेरोन में गिरावट आती है। प्रोजेस्टेरोन को सूजन, पेट फूलने और कब्ज का कारण माना जाता है। अब, जैसे ही माहवारी शुरू होती है, प्रोस्टाग्लैंडिंस चरण शुरू हो जाता है।

प्रोस्टाग्लैंडिन्‍स

प्रोस्टाग्लैंडिंस हार्मोन जैसे रसायन होते हैं जो स्थानीय स्तर पर संपर्क में आने वाले ऊतकों को प्रभावित करते हैं; और माहवारी के दौरान, वे पुराने ऊतकों और रक्त से छुटकारा पाने के लिए गर्भाशय के संकुचन का कारण बनते हैं। ये पेट में माहवारी के समय होने वाली ऐंठन और बेचैनी होने के प्राथमिक कारण हैं। माहवारी में चल रही महिलाओं को लेकर किये गये एक प्रकाशित अध्ययन में यह पाया गया कि इस समय के दौरान दस्त के मामले उन महिलाओं में मौजूद थे जिनमें प्रोस्टाग्लैंडिन्स उच्च स्तर के थे। इस प्रकार, कोई यह अनुमान लगा सकता है कि प्रोस्टाग्लैंडिन्‍स का ‘माहवरी के असली अनुभव’ से सीधा संबंध है, और जिससे शायद पाचन तंत्र की चिकनी मांसपेशियों का संकुचन होता है और उनकी गतिविधि बढ़ जाती है।

महिलाओं को उनकी माहवारी शुरू होने से ठीक पहले कब्ज़ होना आम बात है, और शुरू होने के कुछ ही दिनों में यह समस्‍या हल भी हो जाती है। अध्ययन यह भी बताते हैं कि ऐसी महिलाओं, जिनमें पाचन से सम्‍बंधित कोई भी समस्‍या नहीं है, की तुलना में तेज असर वाले बॉवेल सिन्‍ड्रोम , अल्सरेटिव कोलाइटिस, क्रोहन रोग, या आंत की किसी भी अन्य पुरानी समस्‍याओं से ग्रस्‍त महिलाओं में पाचन संबंधी परेशानियां अधिक होती हैं। इसके अलावा, डिसमेनोरिया (माहवारी में अत्यधिक दर्दनाक ऐंठन) से ग्रस्‍त महिलाएं, या जो महिलाएं गैर-स्टेरायडल, बिना पर्ची के काउंटर से दर्दनिवारक गोलियां (जैसे इबुप्रोफेन) खरीदती हैं, अधिक जीआई समस्‍याओं का सामना करती हैं। लेकिन, उम्मीद तो बची रहती है।

आपकी माहवारी की अवधि को बेहतर बनाने के लिए यहां कुछ बातें बतायी गई हैं:

  1. आहार से सहायता – अपने आहार और जीवनशैली को बदलते हुए, उसमें बहुत सारे उच्च फाइबर खाद्य पदार्थ, साबुत अनाज, फल, और सब्जियां शामिल करना कई बार मददगार हो सकता है। इसी तरह आप अपने नमक (पानी प्रतिधारण की समस्‍या बढ़ाता है), डेयरी (आसानी से पेट खराब करता है), चीनी (मूड में बदलाव और थकान लाता है), शराब (आपको डिहाइड्रेट करता है), मसालेदार खाद्य पदार्थ (आपके पेट को खराब करता है), और कैफीन (डिहाइड्रेट करता है) का सेवन सीमित कर सकते हैं।

हेल्थहंट – रोस्‍टा पाउच कीवी 125 ग्राम लेने का सुझाव देता है।

2. तनाव से मुक्‍ति – योग, ध्यान, और लंबी, लेकिन तरोताजा करने वाली सैर सहित विश्राम तकनीकों का उपयोग करके तनाव का प्रबंधन करने का प्रयास करें। आपकी माहवारी आने से पहले और माहवारी के दौरान नियमित रूप से हल्के व्यायाम करने की भी सलाह दी जाती है।

इसे आजमायें – योगा बॉक्‍स

3. ध्यान दें – लक्षणों, और मददगार साबित होने वाले भोजन/व्यायाम/व्यवहार के किसी भी पैटर्न की पहचान करने के लिए एक माहवारी डायरी बनायें। डायरी काफी सारी कीमती जानकारी प्रदान कर सकती है जिसे कुछ चीजों को अनुकूलित करने या उनसे बचने के लिए, और अंततः असुविधा को कम करने के लिए विकसित किया जा सकता है।

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!