Breaking News

बारिश के बाद दिल्ली समते पूरे उत्तर भारत में बढ़ी ठिठुर, अगले दो दिनों में फिर हो सकती है बारिश

पिछले सप्ताह हुई बारिश के बाद दिल्ली समते पूरे उत्तर भारत में सर्द हवाओं ने एक बार फिर से सर्दी को बढ़ा दिया है। ठंडी हवाओं ने राजधानी दिल्ली एनसीआर को ठिठुरने पर मजबूर कर रही हैं। मौसम विभाग के मुताबिक, ठंड 29 जनवरी तक लगातार बढ़ेगी। इसके बाद 30 जनवरी से हल्की बारिश के अनुमान लगाए गए हैं। वहीं उत्तर भारत के कई हिस्सों में घना कोहरा देखने को मिल रहा है। घने कोहरे और धुंध ने यातायात व्यवस्था को भी प्रभावित किया है।

पांच साल में गणतंत्र दिवस पर सबसे ज्यादा ठंड महसूस की गई

loading...

हवा की वजह से अधिकतम और न्यूनतम तापमान में काफी कमी आई है। दिल्ली का अधिकतम तापमान महज 19.2 डिग्री रहा, यह सामान्य से 3 डिग्री कम है। वहीं पहाड़ों की तरफ से आने वाली बर्फीली हवाओं के चलते दिल्ली में बीते पांच साल में गणतंत्र दिवस पर सबसे ज्यादा ठंड महसूस की गई। मौसम विभाग के मुताबिक, शनिवार को तापमान में सामान्य से तीन डिग्री तक की गिरावट दर्ज की गई और यह छह डिग्री रिकॉर्ड किया गया। अधिकतम तापमान में भी कमी आई।

अगले सप्ताह बारिश का अनुमान

रविवार को तापमान 18 और 5 डिग्री रहेगा। इसके बाद भी न्यूनतम तापमान 4 डिग्री पर सिमटा रहेगा। 30 जनवरी को वेस्टर्न डिस्टर्बेंस के असर से लोगों को ठंड से राहत मिलेगी।स्काईमेट के अनुसार, वेस्टर्न हिमालय पर एक वेस्टर्न डिस्टर्बेंस सक्रिय हो रहा है, जिसका असर 30 जनवरी से 1 फरवरी तक दिल्ली में रहेगा। इस दौरान बादल छाए रहेंगे और हल्की बारिश होगी। हवा चलने से दिल्ली में एक बार फिर प्रदूषण थोड़ा कम हुआ है। शुक्रवार देर रात से चली हवा ने ठंड बढ़ाने के साथ ही प्रदूषण स्तर को भी कम करने का काम किया है। शनिवार को एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) का स्तर दिनभर 150 के आसपास रहा।

414 रेलगाड़ियों का परिचालन रद्द

ठंड-कोहरे और ट्रैक मेंटेनेंस कार्यों के चलते रेलवे ने रविवार को देश भर में 414 रेलगाड़ियों का परिचालन रद्द कर दिया है। रद्द हुई गाड़ियों में ज्यादातर उत्तर भारत में चलने वाली हैं। रेलवे ने 21 गाड़ियों रूट में भी परिवर्तन किया है। इसके अलावा 162 गाड़ियों के परिचालन को आंशिक रूप से रद्द किया है। हवा चलने से एक बार फिर प्रदूषण थोड़ा कम हुआ है।

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!