Breaking News

देश विदेश की पांच खुफिया एजेंसियों की खास बातें व इरादे, इसको जानना है अतिआवश्यक

नए आधुनिक जमाने में हर देश ने जासूसी के लिए खुफिया एजेंसियों की स्थापना की है, जिनका काम सरकार, राजनीतिक दल या महत्वपूर्ण शख्स की जासूसी करना होता है. आइए जानते हैं दुनिया की टॉप 5 खुफिया एजेंसियों के बारे में…

1- भारत का RAW

loading...

भारत की खुफिया एजेंसी रॉ यानी रिसर्च एंड एनालिसिस विंग को दुनिया की ताकतवर खुफिया एजेंसी माना गया है. इसकी स्थापना 1968 में की गई थी. इसका मुख्यालय दिल्ली में है. इस एजेंसी की खासियत यह है कि भारत के प्रधानमंत्री के अलावा किसी के प्रति जवाबदेह नहीं है. रॉ विदेशी मामलों, अपराधियों, आतंकियों के बारे में पूरी जानकारी रखती है. वहीं, इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) भी देश की सुरक्षा के लिए काम करती है. दोनों एजेंसियों ने मिलकर कई बड़े आतंकी हमलों को नाकाम किया है.

2- पाकिस्तान की ISI

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई यानी इंटर सर्विसेस इंटेलीजेंस को दुनिया की नंबर एक खुफिया एजेंसी माना जाता है. इसकी स्थापना साल 1948 में हुई थी. इसका मुख्यालय इस्लामाबाद के शहराह ए सोहरावर्दी में है. इसकी नींव ऑस्ट्रेलियाई मूल के ब्रिटिश आर्मी ऑफिसर मेजर जनरल आर. कैथोम ने रखी थी, जो उस वक्त पाकिस्तानी आर्मी स्टाफ के मुख्य थे. देश की सुरक्षा के नाम पर आईएसआई पर आए दिन आतंकवाद को बढ़ावा देने के आरोप लगते हैं. कई आतंकी हमलों में उसका हाथ माना जाता है.

3- अमेरिका की CIA

अमेरिका की खुफिया एजेंसी सीआईए यानी सेंट्रल इंटेलीजेंस एजेंसी की स्थापना साल 1947 में हुई थी. इसका मुख्यालय वॉशिंगटन के पास वर्जीनिया में है. सीआईए को अमेरिका ही नहीं दुनिया में सबसे ज्यादा सक्षम और ताकतवर मानी जाती है। सीआईए के अलावा अमेरिका में तीन एजेंसियां एनएसए, डीआईए और एफबीआई हैं. सीआईए का काम साइबर क्राइम, आतंकवाद रोकने समेत विदेशों से सूचना एकत्रित करना है. 2013 में वॉशिंगटन पोस्ट ने सीआईए को सबसे ज्यादा बजट वाली खुफिया एजेंसी बताया था.

4- इजराइल का MOSSAD

इजराइल की खुफिया एजेंसी मोसाद को दुनिया की सबसे बेहतरीन और खतरनाक खुफिया एजेंसियों में गिना जाता है. इसकी स्थापना साल 1949 की गई थी. इसका निदेशक सीधे प्रधानमंत्री को रिपोर्ट करता है. मोसाद का मतलब मौत माना जाता है. कहा जाता है कि एक बार जो मोसाद की निगाह में चढ़ गया, उसका बचना मुश्किल है. मोसाद के खूंखार एजेंट उसे दुनिया के किसी भी कोने से ढूंढ निकालने का दम रखते हैं. मोसाद की पहुंच हर उस जगह तक है, जहां इजरायल या उसके नागरिकों के खिलाफ़ कोई भी साजिश रची जा रही हो.

5- चीन का MSS

चीन की खुफिया एजेंसी एमएसएस यानी मिनिस्ट्री ऑफ स्टेट सिक्यूरिटी सबसे बड़ी खुफिया एजेंसी है. इसकी स्थापना 1983 में हुई थी. इसका मुख्यालय बीजींग में है. इसकी काम भी बाकी देशों की खुफिया एजेंसी की तरह है, लेकिन यह देश को राजनैतिक रूप से सुरक्षित रखने के लिए काम करती है

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!