Breaking News

जंगल में लौटे आदिवासियों को खदेडने गई पुलिस टीम का हुआ ये हाल

महाराष्ट्र के फिसरे जंगल में लौटे आदिवासियों को खदेडने गई पुलिस टीम पर आदिवासियों ने आकस्मित हमला कर दिया, इस हमले में कई पुलिसकर्मी घायल हुए हैं असीया आदिवासियों ने पुलिस पर भाला  कुल्हाडी से हमला किया असीया से आदिवासियोंने वन्यकर्मी  पुलिसवालों पर हमला किया जिसमे 15 लोग घायल हो गए 3 घायलों की हालत गंभीर है इस दौरान 15 गाडियों में तोडफोड की गई है अब इस इलाके में धारा 144 लगाई गई है

अमरावती के टायगर रिजर्व में यह आदिवासी मूल ठिकानों पर वापस लौट आए थे दरअसल टाईगर रिजर्व बनने के बाद घने जंगल में बसे 8 से 10 आदिवासी गांवों का पुनर्वास किया गया था 2002 से यह पुनर्वास किया जा रहा है नॉमिनेटेड टायगर रिजर्व में रहना जानलेवा है  वन्यजीव कानून के तहत भी उसे अवैध माना जा रहा है अकोला जिले के खोपट इलाके में इन आदिवासियों का पुनर्वास किया गया यह एरिया शहर के पास है जिससे आदिवासियों की पूरी जीवनशैली ही बदल गई आदिवासियों के पास न तो जमीन थी न ही कमाने का  कोई जरिया ऐसे में उन्होंने कुछ वर्ष तो निकाल लिए लेकिन शहरों की चकाचौंध, महंगाई  जीवनशैली उन्हें रास नहीं आई

loading...

पिछले दिनों से आदिवासियों का फिसरे जंगलों की तरफ जाना हो रहा है जिसे खदेड़ने के लिए जब मंगलवार को अमरावती के वन्यकर्मी चले गए तो उन्होंने वन्यकर्मी  पुलिस पर हमला कर दिया आदिवासी वापस नहीं आना चाहते उनका कहना है की शहर उनके लिए नहीं है जंगल में सभी चीजें सरलता से मिलती है शहर में हर वस्तु के लिए पैसा लगता हैवहां की जीवनशैली ही उन्हें पसंद नहीं है बच्चे पढ़ने लगे तो अपनी संस्कृती  भाषा भी भूलने लगे है आदिवासियों का कहना है कि गवर्नमेंट रोजगार देने के लिए कुछ भी नहीं करती, ऐसे में शहर में क्यों रहें?

वहीं पुलिस  वन्य कर्मियों का कहना है की मेलघाट घना जंगल है टायगर रिजर्व होने के बाद यहां पर घने जंगल में आदिवासियों के लिए व्यवस्था करना उनके लिए जानलेवा हो सकता है सिर्फ बाघ ही नहीं बल्कि अन्य जंगली प्राणी यहां पर आते है उनके लिए पुनर्वास की योजना के तहत स्थान दी गई थी लेकिन अब उन्हे वह पसंद नहीं है

जंगल में के जो गांव खाली हो गए थे उसी गांव के अपने घर में जाकर उन्होनें अपना फिर से डेरा डाल दिया अब वह जंगल में अवैध हो गए है जिन्हें खदेड़ने के लिए गए वन विभाग के कर्मियों पर उन्होनें जानलेवा हमला किया है आदिवासी पूरे परिवार के साथ हमला कर रहें है

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!