Breaking News

पढिये नौकरियां देने में क्यों नाकाम रहा भारतीय रेलवे, आरटीआई रिपोर्ट में हुआ खुलासा

आरटीआई रिपोर्ट में जो खुलासा हुआ है उसके मुताबिक बीते कुछ साल में भारतीय रेलवे नौकरियां देने में नाकाम रहा है. न्यूज एजेंसी आईएएनएस की एक खबर में बताया गया है कि 2008 से लेकर 2018 तक एक भी साल ऐसा नहीं रहा, जब रेलवे के जितने कर्मचारी रिटायर हुए, उससे अधिक नई भर्तियां हुईं हों. इसलिए रेलवे में रिक्त पदों की संख्या करीब 3 लाख हो गई है.

पढिये नौकरियां देने में क्यों नाकाम रहा भारतीय रेलवे, आरटीआई रिपोर्ट हुआ खुलासा

आंकड़ों पर गौर करें तो एनडीए सरकार और यूपीए सरकार दोनों के हालात एक जैसे ही रहे हैं. रेलवे में भर्तियों का आंकड़ा मोदी सरकार में काफी गिर गया. नवंबर 2018 तक रेलवे में ग्रुप-सी और डी के 2,66,790 पद रिक्त थे. वहीं साल 2016-17 के दौरान रेलवे में कुल 13,08,323 कर्मचारी कार्यरत थे. इस लिहाज से ग्रुप-सी और डी के नवंबर 2018 तक 10,41,533 कर्मचारी रह गए. बता दें कि 2008-09 में रेलवे में कर्मचारियों की कुल संख्या 13,86,011 थी.

loading...

नौकरियों को लेकर मोदी सरकार लगातार विपक्षी दलों के निशाने पर है. विपक्ष के नेताओं की ओर से आरोप लगाए जाते हैं कि हर साल 2 करोड़ नौकरियां देने का वादा किया गया था लेकिन सरकार इसे पूरा करने में नाकाम रही. वहीं सरकार की ओर से दावे किए जाते हैं कि नौकरियों की कमी नहीं है. इन सबके बीच सूचना के अधिकार कानून (आरटीआई) के तहत एक ऐसी रिपोर्ट आई है जिससे सरकार के दावों की पोल खुलती नजर आ रही है. यहां बता दें कि भारतीय रेलवे दुनिया में सबसे बड़े रोजगार देने वाले संस्‍थानों में से एक है.

मोदी सरकार के कार्यकाल में आंकड़े

मोदी सरकार के कार्यकाल के दौरान रेलवे में नई भर्तियों के आंकड़े में बड़ी गिरावट आई. साल 2014-15 में रिटायर्ड कर्मचारियों की संख्या 59,960 और नई भर्तियां 15,191 हुईं. साल 2015-16 में रिटायर्ड कर्मचारियों की संख्या 53,654 और नई भर्तियां 27,995 रहीं. जबकि 2016-17 में रिटायर्ड कर्मचारियों की संख्या 58,373 रहीं जबकि नई भर्तियां 19,587 हुईं. वहीं 2017-18 में नई भर्तियां 19,100 हुईं जबकि रिटायर्ड कर्मचारियों की संख्या के आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं.

यूपीए सरकार के कार्यकाल में आंकड़े
यूपीए के कार्यकाल में आंकड़े भी कुछ अच्‍छे नहीं रहे. यूपीए सरकार के कार्यकाल के दौरान रेलवे में भर्तियों के आंकड़े की बात करें तो साल 2007-08 में रिटायर्ड कर्मचारियों की संख्या 42,149 थी. हालांकि इस साल होने वाली नई भर्तियों के आंकड़े उपलब्ध नहीं हैं. वहीं साल 2008-09 में रिटायर्ड कर्मचारियों की संख्या 40,290 थी तो नई भर्तियां सिर्फ 13,870 हुईं.

इसी तरह साल 2009-10 में 41,372 कर्मचारी रिटायर हुए तो नई भर्तियां 11,825 के करीब हुईं. अगर 2010-11 के आंकड़ों पर गौर करें तो रिटायर्ड कर्मचारियों की संख्या 43,251 थी जबकि नई भर्तियां 5,913 रहीं. साल 2011-12 में रेलवे के 44,360 कर्मचारी रिटायर हुए तो वहीं नई भर्तियां 23,292 के करीब हुईं. जबकि 2012-13 में रिटायर्ड कर्मचारियों की संख्या 68,728 और नई भर्तियां 28,467 रहीं. वहीं 2013-14 में 60,728 कर्मचारी रिटायर हुए और नई भर्तियां 31,805 हुई हैं.

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!