Breaking News

वन माफिया को पकड़ने में अब कटे हुए पेड़ देंगे गवाही

 वन माफिया को पकड़ने में अब कटे हुए पेड़ों की गवाही कार्य आने वाली है इन पेड़ों की डीएनए रिपोर्ट बनवाई जाएगी इस रिपोर्ट के माध्यम से लकड़ी माफिया पर अंकुश लग सकेगा वन माफिया पर छापे मारने में उनके पास से जब्त की गई लकड़ी का इस रिपोर्ट से मिलान हो जाने पर यह उनके विरूद्ध पुख्ता प्रमाण बनेगा

उल्लेखनीय है कि अभी तक मानव से जुड़े अपराधों  रिसर्च वर्क में ही डीएनए रिपोर्ट का इस्तेमाल किया जाता था, किन्तु अब वनों के संरक्षण में भी डीएनए रिपोर्ट अहम किरदारनिभाएगी पेड़ों के कटे तने के डीएनए टेस्टिंग की यह व्यवस्था राष्ट्र में पहली दफा मध्य प्रदेश के नौरादेही वन्य जीव अभयारण्य में लागू हुई है यहां इसे पायलट प्रोजेक्ट के रूप में शुरुआत किया गया है

आरोपितों से बरामद की गई लकड़ी और पेड़ के कटे हुए तने की लकड़ी की डीएनए टेस्टिंग स्टेट फॉरेस्ट रिसर्च इंस्टीट्यूट (एसएफआरआइ) जबलपुर द्वारा करवाई जाएगी यदि बरामद लकड़ी, कटे हुए पेड़ की ही पाई गई तो यह डीएनए रिपोर्ट चोरों के खिलाफ वन विभाग के पास एक प्रामाणिक साक्ष्य के रूप में उपलब्ध रहेगी सागर संभाग स्थित नौरादेही वन्य जीव अभयारण्य में लकड़ी माफियाओं पर अंकुश लगाने में सफलता मिलती है तो फिर इसे अन्य सेंचुरी पार्क और वन मंडलों में भी लागू किया जाएगा

loading...
Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!