Breaking News

लोकल ट्रेन से यात्रा करने वाली स्त्रियों पर केमिकल अटैक

मुंबई की लाइफलाइन लोकल ट्रेन से यात्रा करने वाले यात्रियों के ऊपर केमिकल अटैक का खतरा मंडरा रहा है अब तक यात्रियों के पर्स  मोबाइल पर हाथ साफ़ करने वाले चोरों  बदमाशों ने अब एक खतरनाक हथकंडा अपनाया है ये बदमाश  शातिर अब ज्यादातर महिला यात्रियों पर केमिकल अटैक कर उन्हें निशाना बनाने लगे हैं

एक आरोपी रंगे हाथों गिरफ्तार
ये शातिर स्त्रियों के प्राइवेट भाग पर केमिकल से हमला बोल भीड़ में गायब हो जाते है मामले में जीआरपी ने आरोपी को आज प्रातः काल रंगे हाथ अरैस्ट कर लिया
दरअसल मुंबई के व्यवस्ततम स्टेशनों में एक अंधेरी स्टेशन का सबसे बड़ा ब्रिज बड़ा ब्रिज इसलिए क्योंकि यह अंधेरी पूर्व  पश्चिम को जोड़ने के साथ-साथ मेट्रो स्टेशन को भी जोड़ता है शातिर ने अपने नए हथकंडे से इस ब्रिज पर अब तक आधा दर्जन महिला यात्रियों को अपना निशाना बनाया है

loading...

प्राइवेट भाग में डालते हैं कैमिकल
इस हथकंडे के जरिये शातिर आकस्मित भीड़ में महिला यात्रियों के प्राइवेट भाग पर केमिकल फेंकता है  रफूचक्कर हो जाता है, इससे स्त्रियों की स्कीन में जलन होने लगती है  साथ ही कपड़े भी जल जाते है ताज़ा शिकार गायत्री आंचल हुई है अब इसे गायत्री आंचल की खुशकिस्मती कह लीजिए या फिर किस्तम इस हमले में उन्हें किसी तरह की चोट या घाव नहीं आए

अब तक कई मामले आ चुके हैं सामने

– इससे पहले 7 दिसंबर 2018 को 24 वर्ष की महिला यात्री वेदंगी लघाते पर केमिकल फेंका गया आकस्मित से केमिकल की वजह से लघाते के कपड़े बुरी तरह से जल गए  उनकी स्किन काली पड़ गई

– 13 दिसंबर को 19 वर्ष की छात्रा श्रद्धा मिस्त्री पर भी केमिकल से हमला हुआ था महिला के कपड़े पर पड़े केमिकल्स से उसकी स्कीन जलने लगी घटना के बाद महिला यात्रियों को कूपर अस्पताल भेजा गया था

– 18 दिसंबर को एक अन्य महिला के ऊपर भी उसी तरह का हमला महिला ने जीआरपी को दी जानकारी, लेकिन मामला दर्ज कराने से किया मना

रेलवे पुलिस ने की घटना की जांच
इन घटनाओं के सामने आने के बाद रेलवे पुलिस ने इसकी जांच करनी प्रारम्भ कर दी थी, बाकायदा निर्भया टीम भी रेलवे स्टेशन पर गस्त लगाती है रेलवे पुलिस ने ऐसे अपराधियों से निपटने  उन्हें पकड़ने के लिए जाल भी बिछा रखा है गुरुवार को हिरासत में लिए गए आरोपी से पुलिस छानबीन कर रही है पुलिस के लिए सबसे बड़ी कठिन यह है कि ब्रिज के जिस हिस्से में यह घटनाएं सामने आई हैं वहां पर सीसीटीवी कैमरा नहीं है, हालांकि इस मामले में पीड़ित गायत्री के बयान पर आरोपी के विरूद्ध मामला रेलवे पुलिस ने दर्ज किया है

फोरेंसिक जांच के लिए भेजे गए सुबूत
इन घटनाओं के बाद रेलवे पुलिस ने स्त्रियों के कपड़े फोरेंसिक जांच के लिए लैब में भेज दिए हैं फोरेंसिक जांच के बाद रिपोर्ट आने के बाद ही यह पता लग पाएगा कि वह कौन सा केमिकल है पुलिस को अंदेशा है कि यह फेवीक्विक जैसा कोई सफेद केमिकल है, जिसका प्रयोग असामाजिक तत्व मोबाइल या फिर चेन छिनैती को अंजाम देने के लिए कर रहा होगा ताकि यात्री को शिकार बनाते समय उसे गुमराह किया जा सके फिल्हाल पुलिस एक आरोपी को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है लेकिन लोकल की महिलाएं खौफ में जरूर है

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!