Breaking News

क्या आपको पता नीद पूरी न होने पर हो सकता है गंजापन

गंजापन एक आम होती जा रही समस्‍या है। बालों का झड़ना किसी को भी परेशान कर सकता है। इससे न केवल व्‍यक्ति उम्र दराज लगने लगता है, बल्कि खूबसूरती पर भी इसका नकारात्‍मक असर पड़ता है। पर क्‍या आप जानते हैं कि गंजापन असल में बीमारी नहीं, आपके शरीर में आ रही कमजोरी और कई अन्‍य बीमारियों की दस्‍तक है। बालों का औसत से ज्‍यादा झड़ना बताता है कि हमारी लाइफ स्‍टाइल सेहत अनुकूल नहीं है। इन्‍हीं में से एक है नींद पूरी न हो पाना। अगर नींद पूरी नहीं हो रही है, तो यह भी सेहत के लिए नुकसानदायक है और इसका संकेत देते हैं हमारे बाल। आइए जानते हैं क्‍या है बाल झड़ने का कारण।

तनाव – तनाव बढ़ने से शरीर में एण्ड्रोजन की मात्रा बढ़ने लगती है और यही मात्रा सिर में रूसी पैदा करने का कारण भी बनती है। इसके अलावा हर दम बदलते शैम्पू के उपयोग से बालों के गिरने की प्रक्रिया और तेज हो जाती है। तनाव में कमी न केवल आपके बालों के झड़ने की प्रक्रिया को रोक सकता है, बल्कि अच्छे जीवन में भी सहायक बन सकता है।

loading...

जंक फूड – ऐसे आहार का सेवन करने से शरीर को उचित पोषण की मात्रा नही मिलने के कारण शरीर अस्वस्थ होने लगता है। यदि आप अपने आपको स्वस्थ रखना चाहते है तो अपने भोजन में समुचित मात्रा में आयरन प्रोटीन और विटामिन वाले आहार को शामिल करें। इससे आपका शरीर भी हेल्दी रहेगा साथ ही में आपके बाल भी काले घने चमकदार बाल देखने को मिलेगें। हेल्दी फूड के साथ गूदेदार फलों का सेवन करने से उच्च मात्रा में विटामिन सी के साथ शरीर में आयरन की भरपूर मात्रा मिलती है। इससे कोलेजन उत्पन्न होता है, जो बालों को मजबूती प्रदान करता है जो बालों के काला घना लंबा बनाने में मदद करता है।

वायरल इंफेक्शन –यदि आप लंबे समय से किसी बड़ी बीमारी में, या तेज बुखार, टाइफाइड या फिर वायरल इंफेक्शन जैसी बीमारी की चपेट में रहे तो बालों के गिरने की समस्या तेजी से बढ़ सकती है।

हार्मोन परिवर्तन- बालों का तेज़ी से झड़ना का सबसे बड़ा कारण बनता है थायरॉइड या हरेमोन्स में होनेवाले बदलाव। थायरॉइड ग्लैंड के अधिक या कम सक्रिय होने से बालों के गिरने की समस्या बन सकती है हालांकि इस समस्या को सही समय पर सही इलाज करने से रोका जा सकता है।

नींद की समस्या- तनाव के साथ नींद पूरी न होने से सीधा असर आंखों के साथ-साथ हमारे दिमाग पर पड़ता है। और यही विकार हमारे बालों की सेहत पर बुरा असर डालते हैं। कई बार तो यह गंजेपन का कारण भी बन जाता है।

ज्यादा दवाईयों का सेवन- ज्यादा दवाईयों का सेवन करना भी सेहत के साथ बाल के लिये भी खतरनाक होता है। क्योकि दवाइयों में मौजूद ड्रग्स का अति प्रयोग और भारी खुराक का सेवन करने से बाल कमजोर होकर झड़ने लगते है जिससे गंजेपन होने की संभावनाए बढ़ने लगती है।

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!