Breaking News

बाबा रामदेव गारमेंट सेक्टर में पतंजलि परिधान शोरूम की चेन में तेजी

योग गुरु बाबा रामदेव गारमेंट सेक्टर में पतंजलि परिधान शोरूम की चेन तेजी से बढ़ा रहे हैं. 4 जनवरी को ही बाबा रामदेव ने पतंजलि योगपीठ हरिद्वार में अपना स्टोर खोला है. बाबा रामदेव का कहना है कि मार्च 2019 तक देश भर में 100 शोरूम खोले जाएंगे, जबकि मार्च 2020 तक शोरूम की संख्या बढ़ाकर 500 की जाएगी. ऐसे में आप या आपके परिवार का भी कोई सदस्य पतंजलि परिधान शोरूम खोलकर कमाई कर सकता है. अगर आप पतंजलि के साथ बिजनेस शुरू करना चाहते हैं तो ये सही मौका है. कंपनी की फ्रेंचाइजी लेने के कुछ तरीके हम आपको यहां बता रहे हैं.

क्या हैं फ्रेंचाइजी की शर्तें
बाबा रामदेव ने खुद ट्वीट कर पतंजलि की फ्रेंचाइजी की शर्तों का खुलासा किया था. रामदेव के मुताबिक शोरूम खोलने के लिए जरूरी है आपके पास अपनी प्रॉपर्टी हो. यह प्रॉपर्टी किसी मॉल, कमर्शियल कॉम्प्लैक्स या हाई स्ट्रीट पर होनी चाहिए. शोरूम के लिए स्पेस ग्राउंड फ्लोर पर कम से कम 2000 वर्ग फुट होना चाहिए, जिसका फ्रंट 20 फुट का होना चाहिए और हाइट कम से कम 10 फुट होनी चाहिए. गारमेंट या टैक्सटाइल्स का पूर्व अनुभव होना चाहिए.

loading...

कैसे कर सकते हैं अप्लाई
अगर आप इन शर्तों को पूरा करते हैं और फ्रेंचाइजी के लिए अप्लाई करना चाहते हैं तो आप [email protected] पर मेल कर सकते हैं. बाबा ने अपने फेसबुक पोस्ट और ट्वीट पर कुछ फोन नंबर भी दिए हैं. उन पर कॉल करके आप पूरी प्रोसेस जान सकते हैं. नीचे दिए गए ट्वीट से आप नंबर देखकर कॉल भी कर सकते हैं.

क्या है पतंजलि परिधान
बाबा रामदेव ने स्वदेशी परिधान यानी गारमेंट्स की पूरी रेंज उतारी है. इसमें स्वदेशी जींस से लेकर महिलाओं और पुरुषों के स्वदेशी कपड़े शामिल हैं. वहीं, आचार्य बालकृष्ण का कहना है कि कंपनी अपनी ग्रोथ में तेजी लाना चाहती है. इसलिए कुछ और सेगमेंट को मार्केट में उतारा जा रहा है. उन्होंने बताया कि पतंजलि ने साल 2022 तक 50 हजार करोड़ रुपए का टारगेट रखा है, जिसे समय पर पूरा कर लिया जाएगा.

कितना मिलता है मार्जिन
कंपनी के खुदरा विक्रेताओं का मार्जिन भी 20% तक है. डीलर्स का मार्जिन इससे काफी अधिक बताया जाता है. कंपनी तीन अलग-अलग चैनलों के माध्यम से उत्पाद बेचती है.

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!