Breaking News

सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के खिलाफ केरल में हो रहे हिंसक प्रदर्शन

सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश के खिलाफ केरल में हो रहे हिंसक प्रदर्शन अब और तेज हो गए हैं। ऑपरेशन ब्रोकन विंडो के तहत हिंसा करने वाले 3178 से अधिक लोगों को अबतक पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। केंद्रीय राज्य मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने दावा किया है कि, राज्य की कानून और व्यवस्था के हालत बेहद ही चिंताजनक है। केरल के सीएम ने एकतरफा बयान के चलते राज्य में ऐसा स्थिति उत्पन्न हुई है। वहीं ऐसी भी खबरें सामने आ रही हैं कि सबरीमाला में तमिल मूल की 3 मलेशियाई महिलाएं 01 जनवरी को पहुंची थीं।

केंद्रीय मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौर ने रविवार को कहा- केरल में कानून और व्यवस्था की स्थिति बहुत ही भयावह है, अभी 2 दिन पहले बीजेपी सांसद वी. मुरलीधरन जी के घर पर हमला हुआ था, जब केरल के सीएम ने एकतरफा बयान दिया तो ऐसी स्थिति भड़क गई।वहीं एक और विधायक के घर पर हमले की खबर आ रही है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, शनिवार रात कन्नूर के सीपीआई एम विधायक शमशीर के घर पर कुछ अज्ञात लोगों ने हमला किया। हालांकि इस हमले में कोई घायल नहीं हुआ है।

loading...

पुलिस ने बताया कि हिंसा की इन घटनाओं से कुछ ही घंटे पहले अज्ञात लोगों ने माकपा विधायक एएन शमशीर और पार्टी के कन्नूर जिला के पूर्व सचिव पी शशि के घरों पर देशी बम फेंके थे। जिससे इमारत को काफी नुकसान पहुंचा है। भाजपा से राज्यसभा सदस्य वी मुरलीधरण ने बताया कि हमले के वक्त मेरी बहन, जीजा और उनकी बेटी घर में मौजूद थे। हालांकि, इसमें कोई हताहत नहीं हुआ है। माकपा ने अपने नेताओं के घरों पर हुए हमलों के लिए संघ के स्वयंसेवकों को, जबकि भाजपा ने माकपा कार्यकर्ताओं को जिम्मेदार ठहराया है।

केरल में व्यापक तौर पर हुई हिंसा के बाद केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने केरल सरकार से स्थिति पर रिपोर्ट मांगी है। उन्होंने कहा कि हिंसा को जल्द काबू में करने की जरूरत है। वहीं कन्नूर एवं अन्य स्थानों पर जारी हिंसा को देखते हए राज्य पुलिस प्रमुख लोकनाथ बहेरा ने राज्य भर में अलर्ट जारी किया है और पार्टी नेताओं के घरों पर हमले के जिम्मेदार लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार पुलिस ने दावा किया है कि 1 जनवरी से सबरीमाला मंदिर तक पहुंचने वाली 50 से कम उम्र की चार महिलाओं की रिपोर्ट सामने आ चुकी है और इनकी कुल संख्या 10 है। बताया जा रहा है कि पुलिस के पास इन सभी महिलाओं की जानकारी मौजूद है। मंदिर के यात्रा करने वाली महिलाओं में तीन तमिल मूल की मलेशियाई महिलाओं भी शामिल हैं। पुलिस सूत्रों के अनुसार मलेशियाई समूह ने 1 जनवरी को सुबह मंदिर का दौरा किया और लगभग 10 बजे पंबा लौटीं।

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!