सर्जिकल स्ट्राइक में जिस तरह भारतीय सेना ने आतंकवादियों का सफाया करने के लिए दुश्मनों की भूमि में प्रवेश किया था, ठीक ऐसा हमला साल 2011 में देखा गया था जहां अमेरिकी सेना के अधिकारियों ने ओसामा बिन लादेन के क्षेत्र में प्रवेश कर के उसे मार डाला था. 2011 के अमेरिकी हमले को उजागर करते हुए, फिल्म “ज़ीरो डार्क थर्टी” को वास्तविक जीवन की घटना के भयंकर और प्रामाणिक चित्रण को पेश करने के लिए दुनिया भर से सराहना प्राप्त हुई थी.