Breaking News

भारत व ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट सीरीज का आखिरी टेस्ट

भारत  ऑस्ट्रेलिया के बीच टेस्ट सीरीज के आखिरी टेस्ट के दूसरे दिन लंच तक  टीम इंडिया ने अपनी स्थिति बहुत मजबूत कर ली है भारतीय टीम ने पहले दिन का अंत 4 विकेट के नुकसान पर 303 रनों से किया था जिसमें चेतेश्वर पुजारा ने शानदार 130 रनों की नाबाद पारी रही उनका साथ हनुमा विहारी ने 39 रन बनाकर बखूबी दिया इसके बाद दूसरे दिन भी विहारी ने अपना विकेट जल्द नहीं गंवाया लेकिन वे दिन के 12वें ओवर में ही अपना विकेट गंवा बैठे विहारी की 42 रनों की पारी बहुत ज्यादा उपयोगी रही उन्होंने आउट होने से पहले पुजारा के साथ 101 रनों की गठबंधन की

पहले दिन भारतीय टीम की स्थिति दूसरे सत्र तक बहुत ज्यादा अच्छी थी पुजारा  कप्तान विराट कोहली क्रीज पर थे  टीम का स्कोर 2 विकेट के नुकसान पर 177 रन था लेकिन तीसरे सत्र के पहले ओवर में विराट कोहली आउट हुए  उपकप्तान अजिंक्य रहाणे (18) भी ज्यादा देर पुजारा का साथ नहीं दे सके  टीम के 228 के स्कोर पर आउट हो गए भारतीय टीम की स्थिति मजबूत तो थी लेकिन उस समय टीम को एक गठबंधन की आवश्यकता थी जो रहाणे के आने के बाद हनुमा विहारी ने पूरी की

loading...

बहुत मजबूत स्थिति में नहीं था हिंदुस्तान विहारी के आने के समय
विहारी पारी के 71वें ओवर में आए थे उस समय पुजारा बढ़िया फॉर्म में थे  तेजी से रन भी बना रहे थे लेकिन वे अपने शतक के करीब थे ऐसे में एक  विकेट पुजारा पर दबाव बना सकता था यहां विहारी ने अपना विकेट बचाने पर ही जोर नहीं दिया उन्होंने सफलतापूर्वक ऑस्ट्रेलिया के गेंदबाजों का सामना किया  उनकी बाउंसर्स का भी, जिनकी वजह से वे मेलबर्न में आउट हुए थे विहारी ने यहां केवल डिफेंसिव बल्लेबाजी ही नहीं की अपनी तीसरी ही गेंद पर उन्होंने मिचेल स्टार्क को शानदार चौका भी लगाया

विहारी का रहा पहले दिन ऐसा योगदान
विहारी ने दिन का खेल समाप्त होने तक अपना विकेट बचाने के साथ शानदार 39 रन भी बनाए, तब तक पुजारा ने अपना शतक पूरा करते हुए 130 रन बना लिए थे इस तरह दोनों ने टीम का स्कोर पहले दिन ही 300 के पार कर दिया दूसरे दिन विहारी ने रन बनाने की जल्दी नहीं दिखाई ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज जानते थे कि पुजारा को आउट करना कठिन होगाउन्होंने विहारी को टार्गेट किया विहारी ने दिन के 12 ओवर अपना विकेट बचाए रखा लेकिन वे नाथन लॉयन का शिकार बन गए लॉयन की गेंद पर एक महीन कट लगा  गेंद उनके कंधे से लग कर उछली  उन्हें लैबुशेन ने लपक लिया विहारी ने तुरंत रीव्यू लिया, लेकिन उसमें भी वे आउट ही करार दिए गए

अपनी उपयोगिता साबित की
आउट होने तक विहारी पुजारा के साथ 101 रनों की गठबंधन कर चुके थे जबकि टीम का स्कोर 329 रन हो चुका था विहारी ने टीम को बहुत ज्यादा मजबूत स्थिति में कर दिया एक बार फिर टीम में अपनी अहमियत साबित कर दी विहारी ने अब तक चार टेस्ट की 7 पारियों में अब तक 167 रन बनाए हैं जिसमें उनका सर्वोच्च स्कोर 56 रन है इन में एक मैच में वे सलामी बल्लेबाज के तौर पर भी खेल चुके हैं

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!