Breaking News

नए वर्ष में आपको मिलेगा शुद्ध खाना, ये होंगे होंगे मुख्य बदलाव?

कोई भी फूड प्रोडक्ट जो आप खा रहे हैं, उसकी शुद्धता इस पर बात पर निर्भर करती है कि उसकी पैकिंग कैसी है? के एक सर्वे के मुताबिक कई प्रोडक्ट की पैकिंग सही नहीं होती 80 प्रतिशत रंगीन पैकेटों, 59 प्रतिशत काले कैरीबैग, 24 प्रतिशत एल्युमिनियम कोटेड डिस्पोजेबल कंटेनर्स में खतरनाक कैमिकल होता है ये केमिकल हमारी स्वास्थ्य के लिए खतरनाक होता है लेकिन नए वर्ष में इन चीजों से मुक्ति मिल सकती है नए वर्ष में एक जनवरी से दाल, ऑर्गेनिक फूड शहद, चने, दलहन आदि फूड प्रोडक्ट की लेबलिंग  सर्टिफिकेशन पर नए नियम लागू हो गए हैं ये करीब 28 स्टैंडर्ड हैं जिन्हें 2018 में तैयार किया गया था

क्या होंगे मुख्य बदलाव?

loading...

मल्टीलेयर पैकिंग
नए नियमों में साफ लिखा होगा कि पैकेजिंग के लिए किन चीजों का प्रयोग होगा साथ ही नए मल्टीलेयर पैकेजिंग की व्यवस्था होगी ताकि खाने की चीजें सीधे पैकेट के टच में न आ सकें इसके अतिरिक्त स्वास्थ्य का ध्यान रखने के लिए प्रिंटिंग इंक का भी खास ध्यान रखा जाएगा न्यूज पेपर या किसी भी प्रकार से लिखे हुए कागज से कुछ भी पैक करना गलत होगा नए नियम के तहत सस्ते  घटिया किस्म के उत्पाद पैकिंग में प्रयोग नहीं होंगे मिनरल वाटर या पैकेज्ड ड्रिंकिंग वाटर ट्रांसपेरेंट, कलरलेस डिब्बे में ही पैक होंगे

रीसाइकल प्लास्टिक का प्रयोग होगा बैन
मौजूदा नियमों के मुताबिक पैकेजिंग के लिए एल्यूमिनियम, कॉपर, प्लास्टिक  टिन का प्रयोग किया जाता है, लेकिन अब खाने-पीने की चीजों की पैकेजिंग में बॉडी को हानि पहुंचाने वाली चीजों का प्रयोग नहीं होगा अब जिस रैपर या डिब्बे में आपका खाना पैक होगा, उसमें हानिकारक तत्व हैं या नहीं इसकी मात्रा तय होगा साथ ही रीसाइकल किया गया प्लास्टिक पैकिंग में इस्तेमाल नहीं होगा

फूड पैकेजिंग को तीन हिस्सों में बांटा गया
अभी BIS के पास पैकेजिंग के नियम थे लेकिन अब FSSAI के नियम जरूरी होंगे ये तीन हिस्से में होंगे पैकेजिंग, लेबलिंग  क्लेम एंड एडवरटाइजमेंट जो इन तीन नियमों को तोड़ेगा उन पर कार्रवाई होगी

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!