Saturday , December 7 2019 19:17
Breaking News

स्किन प्रॉब्लम में भी बहुत फायदेमंद है राई

खाना बनाने में राई का प्रयोग तड़का लगाने में किया जा सकता है। इसके अलावा राई और मेथी की खिचड़ी भी बहुत स्वादिष्ट होती है। राई के दानों को अचार, चटनी, सब्जी आदि में प्रयोग किया जाता है।

Image result for स्किन प्रॉब्लम में भी बहुत फायदेमंद है राई

ये दाने इसलिए फायदेमंद होते हैं क्योंकि इनमें कैल्शियम, मैग्नीशियम, ओमेगा-3 फैटी एसिड, मैग्नीशियम, सेलेनियम , फास्फोरस, मैगनींज, कॉपर, आयरन और विटामिन बी1 प्रचुर मात्रा में होता है। इसके अलावा इसमें फाइबर की मात्रा भी अच्छी होती है। आइए आपको बताते हैं कि कितने फायदेमंद हैं राई के दाने और क्या हैं इनके स्वास्थ्य लाभ।

कैंसर से भी बचाएगी – राई में फीटोन्यूट्रिएंट्स पाया जाता है जो गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल कैंसर को रोकने में मदद करता है। साथ ही यह नए कैंसर को पनपाने से रोकता भी है। इसमें मौजूद मिरोसिनेज शरीर में कैंसर कोशिकाओं की वृद्धि को रोकने में मदद करता है। यह शरीर को हैल्दी रखने और बीमारियों से लडने में बहुत सहायक है।

कोलेस्ट्रॉल कम करे – राई के प्रयोग से आपका बढ़ा हुआ कोलेस्ट्रॉल धीरे-धीरे कम हो जाता है और कंट्रोल में रहता है। राई में नियासिन यानि विटामिन बी-3 होता है, जो कोलेस्ट्रॉल के नियंत्रण के लिए एक जरूरी विटामिन है। कोलेस्ट्रॉल कम करने के लिए अपने रोज के खाने में राई के दानों का प्रयोग करें। इसके अलावा आप रोज रात में दो चम्मच राई भिगो दें। सुबह जब राई पूरी तरह फूल जाए, तो राई को छान लें। इस राई के पानी को सुबह खाली पेट पिएं और राई के दानों को सूखा खाएं या फल, सलाद, चटनी आदि में मिलाकर खाएं। इससे आपका कोलेस्ट्रॉल तेजी से कम होगा और दिल की बीमारियों का खतरा भी कम हो जाएगा।

दस्त और पेट की बीमारियों में राहत दे – एंटीसेप्टिक और रोधी गुणों के साथ राई का प्रमुख गुण पाचक होता है। पेट के कीड़े इसका पानी पीने से मर जाते हैं।चुटकीभर राई के चूर्ण को पानी के साथ घोलकर बच्चों को देने से वे रात में बिस्तर पर पेशाब करना बंद कर देते है। यदि किसी व्यक्ति को लगातार दस्त हो रहे हों तो हथेली में थोड़ी सी राई लेकर हल्के गुनगुने पानी में डाल दिया जाए और रोगी को पिला दिया जाए तो काफी आराम मिलता है।

स्किन प्रॉब्लेम्स रखे दूर – राई में मौजूद पोषक तत्वा रोगों में फायदेमंद होते हैं। किसी भी प्रकार का त्वचा रोग होने पर राई के दानों को पीसकर, सरसों के तेल में मिलाकर लगाने से लाभ मिलता है। इसके अलावा राई नेचुरल स्क्रब का काम भी करता है। इसे गुलाबजल के साथ लगाने से चेहरे की डेड स्किन हटती है। राई के सेवन से बुढ़ापा बहुत देर में आता है। त्वचा को हाइड्रेट करने के लिए, एजिंग को धीमा करने के लिए, इंफेक्शन को दूर करने के लिए और नेचुरल स्क्रब के रुप में राई का इस्तेमाल लाभकारी होता है।

Share & Get Rs.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!