Breaking News

सबरीमाला मंदिर में स्त्रियों को प्रवेश दिए जाने के मामले में पुनर्विचार याचिका पर SC का आज अहम निर्णय

सबरीमाला मंदिर में स्त्रियों को प्रवेश दिए जाने के मामले में पुनर्विचार याचिका पर सुप्रीम न्यायालय आज अहम निर्णय सुना सकता है दरअसल, सबरीमाला मंदिर में 10 से 50 साल आयु वर्ग की स्त्रियों के प्रवेश दिए जाने के बाद सुप्रीम न्यायालय में एक याचिका दायर कर बोला गया था कि इस पर दोबारा विचार किया जाए मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई न्यायमूर्ति एस के कौल की पीठ ने एडवोकेट मैथ्यूज जे नेदुम्परा की इस दलील पर विचार किया कि संवैधानिक पीठ के निर्णय पर फिर से विचार की मांग कर रही उनकी याचिका को तत्काल सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया जाए पीठ ने बोला था, हम जानते हैं कि 19 पुनर्विचार याचिकाएं लंबित हैं हम कल तक निर्णय करेंगे

Image result for सबरीमाला मंदिर में स्त्रियों को प्रवेश दिए जाने के

नेदुम्परा राष्ट्रीय अयप्पा श्रद्धालु संगठन की ओर से दाखिल याचिका पर एडवोकेट के तौर पर पेश हुए  मामले की जल्द सुनवाई का अनुरोध किया पांच सदस्यों वाली संविधान पीठ ने 4:1 के अनुपात से निर्णय सुनाया था कि सबरीमला मंदिर में हर आयु वर्ग की स्त्रियों को प्रवेश की अनुमति दी जाए

9 अक्टूबर को जल्द सुनवाई करने से मना किया था
बीते नौ अक्टूबर को कोर्ट ने नेदुम्परा की याचिका पर जल्द सुनवाई से मना कर दिया था पीठ ने बोला था कि दशहरा के अवकाश के बाद ही पुनर्विचार याचिकाओं पर सुनवाई हो सकती है  यह सुनवाई खुली न्यायालय में न होकर कक्ष में होगी राष्ट्रीय अयप्पा श्रद्धालु संगठन के अतिरिक्त नायर सेवा समाज (एनएसएस) ने भी याचिका दायर कर शीर्ष न्यायालय के 28 सितंबर के निर्णय पर फिर से विचार की मांग की है

मंदिर में स्त्रियों को नहीं मिला प्रवेश
उल्लेखनीय है कि पिछले दिनों सबरीमाला मंदिर के कपाट पिछले दिनों खोले गए थे सुप्रीम न्यायालय ने भले केरल के सबरीमाला मंदिर में स्त्रियों के प्रवेश का रास्ता साफ कर दिया हो, लेकिन अब तक स्त्रियों को मंदिर में प्रवेश मिल नहीं सका है 5वें दिन भी महिलाएं मंदिर में प्रवेश नहीं कर सकीं रविवार को आंध्र प्रदेश की रहने वाली चार महिलाएं रविवार को ईश्वर अयप्पा के दर्शन के लिए सबरीमाला मंदिर की ओर जा रही थीं कि तभी गुस्साए प्रदर्शनकारियों ने उनका रास्ता रोका  उन्हें वापस लौटा दिया प्रातः काल 10 बजे एक पुरुष श्रद्धालु के साथ दो स्त्रियों को प्रदर्शनकारियों के गुस्से का सामना करना पड़ा श्रद्धालु पहाड़ी पर स्थित मंदिर के अपने सफर की आरंभ करने के लिए मंदिर कस्बे के मुख्य मार्ग में प्रवेश करने के करीब थे कि तभी प्रदर्शनकारियों ने उन्हें घेर लिया संकट बढ़ता देख पुलिस अधिकारियों ने दोनों स्त्रियों के इर्द-गिर्द एक सुरक्षा घेरा बना लिया  वे उन्हें पांबा के पुलिस नियंत्रण कक्ष ले गए

पुलिस महानिरीक्षक एस श्रीजित ने संवाददाताओं को बताया कि दोनों स्त्रियों का कहना है कि जब उन्होंने सुना कि सुप्रीम न्यायालय ने सभी स्त्रियों को मंदिर में प्रवेश की इजाजत दे दी है, तो उन्होंने तीर्थयात्रा करने का निर्णय किया श्रीजित ने कहा, “ये महिलाएं आंध्र प्रदेश के तीर्थयात्रा समूह का भाग हैं  केरल के विभिन्न मंदिरों की यात्रा कर रही हैं जब उन्हें विरोध प्रदर्शन के बारे में बताया गया तो उन्होंने लौटने का निर्णय किया  हमने उन्हें निलक्कल में खड़े वाहन तक पहुंचाया “

loading...
Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!