Saturday , March 28 2020 19:49
Breaking News

लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र सरकार GST में लगातार कर रही परिवर्तन 

Loading...

लोकसभा चुनाव से पहले केंद्र सरकार GST में लगातार परिवर्तन कर रही है कड़ाई से लागू किए गए इस कानून में अब चुनावी सीजन में राहत का दौर जारी हैपरिवर्तन के बाद चीज  सेवा कर () पर वार्षिक रिटर्न भरने की अंतिम तारीख भी 30 जून 2019 तक बढ़ा दी गई है

आपको बता दें कि, GST में राहत दे रही केंद्र गवर्नमेंट ने दिसंबर में लचीला रुख अपनाते हुए 99 प्रतिशत उत्पादों पर GST को सीमित दर पर लागू किया है इसके अतिरिक्त वार्षिक रिटर्न को 30 जून 2019 तक जमा करवा कर एमनेस्टी स्कीम का फायदा लेने की बात कही थी, ताकि इसका फायदा कारोबारियों को आम चुनावों से पहले मिल सके

विभाग के द्वारा GST काउंसिल की आखिरी मीटिंग में फैसला लेकर कई वस्तुओं पर लागू 28 प्रतिशत की कर दर को घटाया गया है जिसके बाद GST की 28 प्रतिशत की उच्चतम कर स्लैब में सिर्फ दो दर्जन वस्तुएं ही रह गई हैं लेकिन, एमनेस्टी स्कीम के देर से लागू होने के कारण व्यापारिक जगत में इसका विरोध भी हो रहा है वैसे पेट्रोलियम उत्पाद, बिजली, शराब, जमीन  निर्माण अनुबंध इसमें शामिल हैं, जबकि रीयल एस्टेट जैसे एरिया GST के दायरे से अब तक बाहर हैं

Loading...

वहीं, अभी भी कई उत्पादों पर रिटर्न दाखिल करने वालों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है स्टील उत्पाद पर GST को लेकर दो तरह की स्लैब होने के कारण इंडस्ट्री को रिफंड लेने में असुविधा हो रही है इस समय स्टील फिनिश्ड पर GST दर 12 फीसदी है  रॉ मैटेरियल पर 18 फीसदी की दर है ऐसे में प्रोडक्ट कॉस्टिंग  GST रिफंड को लेकर कंपनियों को लेकर तकनीकी परेशानियां भी आ रही हैं जिस कारण कई कंपनियों को GST रिफंड अब तक वापस नहीं मिल पाया है वैसे इंडस्ट्री के लोगों की मांग है कि इसे संशोधित कर सारे स्टील उत्पादों पर 12 फीसदी कर लगाया जाना चाहिए

आर्थिक जगत के सुझावों पर गवर्नमेंट कर रही है अमल 
माना जा रहा है कि GST काउंसिल आम चुनाव से पहले उन सभी मुश्किलों को दूर करने जा रही हैं जिनका विरोध बीजेपी गवर्नमेंट को आर्थिक जगत की बैठकों में झेलना पड़ रहा हैंबताया जा रहा है कि वित्त मंत्रालय इन बैठकों में मिल रहे सुझावों को तुरंत GST काउंसिल में भेज रहा है इसके अतिरिक्त रिफंड प्रक्रिया की जटिलताए दूर करने के कोशिश भी काउंसिल कर रहा है

जीसएटी को लागू करने के लिए कठोर है सरकार 
विभागीय सूत्रों का कहना है कि GST की मासिक वसूली अप्रैल-नवंबर 2018 के दौरान औसतन 97,100 करोड़ रुपये रही पिछले वित्त साल में मासिक वसूली का औसत 89,100 करोड़ रुपये था इस वित्त साल में अप्रैल-नवंबर के दौरान गवर्नमेंट ने GST की चोरी के 12,000 करोड़ रुपये के मामले पकड़े  8000 करोड़ रुपये की वसूली की गई है साथ हीं GSTलागू होने के बाद करदाता इकाइयों का भी विस्तार हुआ है

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!