Monday , December 16 2019 7:20
Breaking News

राम मंदिर को लेकर बीजेपी और योगी सरकार के बीच चली 7 घंटे की बैठक, ये हुआ निर्णय

आरएसएस, बीजेपी और योगी सरकार के बीच लखनऊ में चली 7 घंटे की बैठक में राम मंदिर, 2019 के लोकसभा चुनाव और कैबिनेट में फेरबदल को लेकर चर्चा हुई. संघ ने बीजेपी अध्यक्ष के सामने राम मंदिर को लेकर अपना स्टैंड रखा.

Related image

उत्तर प्रदेश में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारियों के साथ बीजेपी नेताओं की 7 घंटे बैठक चली. इस दौरान बीजेपी और सरकार की समीक्षा के साथ साथ राम मंदिर पर चर्चा हुई. आरएसएस ने बीजेपी नेताओं के सामने राम मंदिर पर संघ प्रमुख मोहन भागवत के लिए गए अपने स्टैंड को साफ साफ तौर पर रखा.

शाह के सामने संघ ने रखी बातें

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह लखनऊ के आनंदी वाटर पार्क में आयोजित संगठन और संघ के बीच हुए समन्वय बैठक में शामिल हुए. इस दौरान आरएसएस नेताओं ने शाह को राम मंदिर के लिए कानून बनाने का सुझाव दिया.
बैठक के बाद बाहर निकल कर संघ के सरकार्यवाह डॉ कृष्ण गोपाल ने कहा कि बीजेपी के साथ हमारी ये रूटीन बैठक थी. इसमें सिर्फ बीजेपी और उससे जुड़े संगठनों के कामकाज की समीक्षा हुई. इस बैठक में न तो राम मंदिर पर कोई बात नहीं हुई न ही मंत्रियों के कामकाज पर. जबकि सूत्रों की माने तो संघ ने बैठक में संघ प्रमुख का मंदिर पर लिए गए स्टैंड को साफ साफ रख दिया गया.

राम मंदिर पर संघ ने रखा अपना स्टैंड

सूत्रों की मानें तो राम मंदिर पर संघ प्रमुख के लिए गए स्टैंड को यानी कानून के जरिए मंदिर बनाने के प्रस्ताव को बीजेपी के सामने साफ तौर पर रखा. इसके साथ उस बात का हवाल दिया गया कि अगर संघ परिवार की तरफ से मंदिर बनाने को लेकर किसी भी तरह की कोई ढिलाई दिखती है तो इसका फायदा दूसरे दलों को मिलेगा. हिंदूवादी संगठन जो इन दिनों संघ और बीजेपी से नाराज चल रहे हैं, उन्हें दूसरे दल अपने साथ जोड़ने में सफल हो सकते हैं.
बीजेपी संगठन और संघ के साथ हुई समन्वय बैठक में राम मंदिर का मुद्दा उठाया गया. जबकि विस्तार से इसकी कोर ग्रुप में हुई, जिसमे संघ की तरफ से दत्तात्रेय होशबोले, डॉक्टर कृष्ण गोपाल और संघ से बीजेपी में आए रामलाल इसके अलावा बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह योगी आदित्यनाथ केशव मौर्य दिनेश शर्मा भूपेंद्र यादव और महेंद्र पांडे मौजूद थे.

फैसले के इंतजार में अमित शाह

इस कोर ग्रुप की बैठक में बीजेपी ने अपने उसी पुराने स्टैंड को सामने रखा, राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने साफ-साफ कहा कि हमें न्यायालय के आखिरी फैसले का इंतजार करना चाहिए. हालांकि साथ ही उन्होने फिर दोहराया कि 1990 में बीजेपी का राम मंदिर पर जो स्टैंड था, वही आज भी है यानी जल्द से जल्द मंदिर बनना चाहिए.
कैबिनेट में नए चेहरों को मौका?

समन्वय बैठक में योगी सरकार के कैबिनेट विस्तार के मुद्दे पर भी चर्चा हुई. इसके अलावा सरकार में काबिज कुछ चेहरों को दोबारा संगठन में भेजने पर भी मंथन किया है. सूत्रों का कहना है कि कुछ नए चेहरों को योगी कैबिनेट में शामिल किया जा सकता है.

2019 चुनाव पर चर्चा

समन्वय बैठक में 2019 के लोकसभा चुनाव को लेकर मंथन हुआ. बीजेपी और उनके सभी संगठनों को साफ-साफ 2019 की तैयारी के लिए दिशा निर्देश दिए गए हैं. SC/ST एक्ट और सरकार और संगठन के तालमेल पर भी अलग-अलग घटकों ने अपनी राय रखी.

Share & Get Rs.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!