Breaking News

मुकेश अंबानी व रतन टाटा से कर्ज से जूझ रही जेट एयरवेज ने मांगी मदद

वित्तीय संकट से घिरी जेट एयरवेज के प्रमुख नरेश गोयल ने एयरलाइंस को बचाने के लिए का दरवाजा खटखटाया है मामले की जानकारी रखने वाले लोगों ने बताया कि नरेश गोयल ने टाटा ग्रुप के रतन टाटा से भी मदद मांगी है जेट एयरवेज में नरेश गोयल की हिस्सेदारी 51 प्रतिशत है वह कंपनी को बचाने के लिए इसका कुछ भाग बेचना चाहते हैंकंपनी की वित्तीय हालत इतनी बेकार है कि पिछले कई महीनों से कर्मचारियों की सैलरी समय पर नहीं दे पा रही है

Image result for मुकेश अंबानी व रतन टाटा से कर्ज से जूझ रही जेट एयरवेज ने मांगी मदद

मिंट की एक समाचार के मुताबिक, मुकेश अंबानी ने गोयल के अनुरोध पर अभी तक कुछ भी जवाब नहीं दिया है रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि कई विदेशी एयरलाइंस से वार्ता जारी है इससे पहले समाचार आई थी कि टाटा ग्रुप जेट एयरवेज में भाग खरीदना चाहता था पर बात नहीं बनी टाटा ग्रुप पहले ही राष्ट्र में एयर एशिया  सिंगापुर एयरलाइंस के साथ विस्तारा एयरलाइंस चला रहा है विस्तारा में इसकी 41 प्रतिशत हिस्सेदारी है विस्तारा टाटा  सिंगापुर एयरलाइंस का ज्वाइंट वेंचर है हालांकि, टाटा ग्रुप के प्रवक्ता ने इस पर कुछ भी टिप्पणी करने से मना कर दिया है इस समाचार पर जेट एयरवेज़ के प्रवक्ता ने बोला कि कंपनी की नीति के मुताबिक हम अटकलबाजी पर टिप्पणी नहीं करते

loading...

जेट एयरवेज में अबूधाबी की कंपनी एतिहात एयरवेज की 24 प्रतिशत हिस्सेदारी है कंपनी को अपने कर्ज का ब्याज चुकाने  कर्मचारियों को सैलरी देने के लिए पूंजी की कठोरआवश्यकता है मुकेश अंबानी इससे पहले भी कई कंपनियों में भाग खरीद कर उनकी मदद कर चुके हैं

लगातार घाटे से जूझ रही जेट एयरवेज ने पायलटों, इंजीनियरों  प्रबंधंन में वरिष्ठ कर्मचारियों को अगस्त का बकाया वेतन भी देरी से दिया था कंपनी ने बोला था कि सितंबर के वेतन में देरी होगी कंपनी के मुताबिक अगस्त महीने के 50 प्रतिशत बकाया वेतन का भुगतान 26 सितंबर को हो जाना था लेकिन उस रकम में से सिर्फ आधे का भुगतान कर पाई थीइसी बीच, जेट एयरवेज़ एयरक्राफ्ट लेसर को पेमेंट नहीं कर पाई है जिसके चलते एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया ने नोटिस जारी किया है

कुछ समय पहले, जेट एयरवेज ने 20 कर्मचारियों को जॉब से निकाला था जिसमें कुछ वरिष्ठ लेवल के एक्जक्यूटिव भी शामिल थे एक दशक पहले कंपनी ने 1900 कर्मचारियों को कंपनी से बाहर का रास्ता दिखाया था लेकिन बवाल बढ़ने पर उन्हें वापस रख लिया था इतना ही नहीं, चेयरमैन नरेश गोयल ने कर्मचारियों से माफी तक मांगी थी

कुछ ऐसे बिगड़ती गई जेट एयरवेज की वित्तीय उड़ान
जेट एयरवेज को जनवरी-मार्च में कमाई गिरने  खर्च बढ़ने से जनवरी-मार्च (2018) तिमाही में करीब 1,040 करोड़ का घाटा हुआ मई 2018 में जेट एयरवेज में इसकी सब्सिडियरी जेटलाइट के मर्जर को मंजूरी नहीं मिली, जिससे दशा  बिगड़ गए अगस्त आते-आते कंपनी भारी नकदी संकट से जूझने लगी एयरलाइंस को वरिष्ठ कर्मचारियों की सैलरी में 25 प्रतिशत कटौती करनी पड़ी चालू वित्तीय वर्ष 2018-19 की पहली तिमाही में घाटा 30 परसेंट से ज्यादा बढ़कर 1323 करोड़ रुपये पहुंच गया कंपनी कर्मचारियों को अगस्त महीने की आधी सैलरी ही दे पाई इनकम कर अधिकारियों ने वित्तीय अनियमितताओं के आरोपों को लेकर कंपनी के मुंबई  दिल्ली दफ्तर पर सर्वे किया सितंबर 2018 में भारी कर्ज से गुजर रही जेट एयरवेज ने इकोनॉमी क्लास में फ्री खाना न देने का निर्णय किया

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!