Breaking News

भीमा कोरेगांव मामले में आज आएगा फैसला

भीमा कोरेगाव मामले में अरैस्ट किए गए 5 मानवाधिकार कार्यकर्ताओं के विषय में आज सुप्रीम न्यायालय निर्णय सुनाने वाली है इतिहासकार रोमिला थापर, अर्थशास्त्री प्रभात पटनायक, देवकी जैन  समाजशास्त्र के प्रोफेसर सतीश देशपांडे ने न्यायालय में अपनी याचिका में इन गिरफ्तारियों के संदर्भ में स्वतंत्र जांच  कार्यकर्ताओं की तत्काल रिहाई की मांग की थी न्यायालय निर्णय के जरिए तय करेगा कि पांच एक्टिविस्टों के विरूद्ध पुणे पुलिस की जांच जारी रहेगी या नहीं इससे पहले न्यायालय ने बोला था कि वह मामले पर अपनी नज़र गड़ाए रखेगा, क्योंकि सिर्फ कयास या अनुमान के नाम पर किसी को दोषी नहीं माना जा सकता है
Image result for भीमा कोरेगांव मामला: 5 मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी पर आज अहम् फैसला

इससे पहले 20 सितम्बर को मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा जस्टिस एएम खानविलकर  जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने दोनों पक्षों की सुनवाई करने के बाद निर्णय सुरक्षित रखा थाउल्लेखनीय है कि पुलिस ने 28 अगस्त को राष्ट्र भर के विभिन्न राज्यों में छापेमारी करके वरवरा राव, अरुण फरेरा, वरनॉन गोंजाल्विस, सुधा भारद्वाज  गौतम नवलखा को अरैस्ट किया था, जिसके बाद न्यायालय ने उन्हें पुलिस हिरासत में न रखते हुए उन्हें अपने-अपने घरों में ही नज़रबंद रखने का निर्णय सुनाया था

आपको बता दें कि 31 दिसंबर 2017 को हुए एल्गर परिषद् सम्मेलन के बाद महाराष्ट्र के भीमा कोरेगाव इलाके में भड़की हिंसा के लिए उपरोक्त मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की भड़काऊ टिप्पणी को जिम्मेदार बताते हुए उनके विरूद्ध FIR दर्ज की गई थी, जिसके बाद पुलिस ने कार्यवाही करते हुए उन्हें अरैस्ट किया था

loading...
Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!