Friday , December 6 2019 7:08
Breaking News

बोर्ड एग्जाम में कॉलेज ही लगाएंगे शिक्षकों की ड्यूटी

यूपी बोर्ड परीक्षा के लिए शिक्षकों की ड्यूटी खुद कॉलेज प्रशासन लगाएगा। बता दें कि आमतौर पर परीक्षा कार्यालय ही कॉलेज में शिक्षकों की ड्यूटी तय करता था। लेकिन इस बार विभाग ने शिक्षकों की ड्यूटी लगाने की जिम्मेदारी पूरी तरह से संबंधित कॉलेज को दी है और ऐसा इसलिये किया गया है ताकि ड्यूटी सुनिश्चित करने की जिम्मेदारी पूरी तरह से संबंधित कॉलेज की हो। विभाग की ओर से उनको ड्यूटी के लिए तैनात किए जाने वाले शिक्षकों की संख्या उपलब्ध करा दी जाएगी।

Image result for बोर्ड एग्जाम में कॉलेज ही लगाएंगे शिक्षकों की ड्यूटी

बता दें कि यूपी बोर्ड की परीक्षा में करीब चार हजार से ज्यादा शिक्षकों की ड्यूटी परीक्षा केंद्रों पर कक्ष निरीक्षक के रूप में लगाई जाती है। इनमें से सबसे ज्यादा वित्तविहीन विद्यालयों के शिक्षकों की ड्यूटी लगाई जाती है, जो करीब ढाई हजार से ज्यादा होती है। कार्यालय में सभी शिक्षकों के परिचय पत्र का रिकॉर्ड उपलब्ध रहता है, जो कि जिला विद्यालय निरीक्षक का परीक्षा कार्यालय बनाता है।

सामन्यतया यूपी बोर्ड की परीक्षा में परीक्षा कार्यालय ही तय करता है कि किस शिक्षक की ड्यूटी किस परीक्षा केंद्र पर लगानी है, लेकिन इस व्यवस्था में वित्तविहीन विद्यालय अपनी मनमानी करते हैं। ऐसे विद्यालय के शिक्षकों की परीक्षा केंद्र पर ड्यूटी लगाई जाती है, लेकिन वें परीक्षा केंद्र पर ड्यूटी करने नहीं जाते हैं। कई ऐसे वित्तविहीन विद्यालय भी हैं, जिनके शिक्षकों की ड्यूटी परीक्षा केन्द्रों पर लगाई जाती है, लेकिन विद्यालय शिक्षकों को अध्यापन कार्य के लिए रोक लेते हैं और परीक्षा केन्द्र पर ड्यूटी के लिए नहीं भेजते।

ऐसी स्थिति में 2019 में आयोजित होने वाली यूपी बोर्ड परीक्षा में शिक्षकों की ड्यूटी लगाने का कार्य स्वयं कॉलेज करेगा। इस मामले में जिला विद्यालय निरीक्षक डॉ. मुकेश कुमार सिंह ने बताया कि चार हजार शिक्षकों के सापेक्ष करीब छह हजार शिक्षकों का परिचय पत्र बनाया जाएगा। इनमें से दो हजार शिक्षक रिजर्व में रखे जाएंगे। उन्होंने बताया कि उनके यहां के कितने शिक्षक किस परीक्षा केंद्र पर ड्यूटी करेंगे, इस बात की जानकारी कार्यालय की ओर से विद्यालय को दे दी जाएगी। इसमें वह विद्यालय तय करेगा कि कौन-कौन से शिक्षक ड्यूटी करेंगे।

उन्होंने यह भी बताया कि इससे शिक्षकों को ड्यूटी पर भेजने की जिम्मेदारी पूरी तरह से कॉलेज प्रशासन की होगी। अगर कोई शिक्षक ड्यूटी करने नहीं जाता है तो उसके स्थान पर विद्यालय दूसरे शिक्षक को ड्यूटी लगायेगा। इसके अलावा सभी शिक्षकों का पूरी ब्यौरा जैसे आधार नंबर समेत सभी जरूरी जानकारी विभाग के पास रहेगी। उनको विशेष कोड भी दिया जाएगा, जो परिचय पत्र पर अंकित होगा। जिसे परीक्षा केंद्र के इंचार्ज और उड़ाका दल के सदस्य ड्यूटी करने वाले शिक्षकों की किसी भी समय जांच कर पाएंगे।

Share & Get Rs.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!