Sunday , December 8 2019 10:26
Breaking News

बुलेट ट्रेन के लिए जापान ने खाेेल दी तिजोरी

हिंदुस्तान  जापान गवर्नमेंट की ओर से एक कदम  आगे बढ़ाया गया है शुक्रवार को जापान इंटरनेशनल कोऑपरेशन एजेंसी (जेआईसीए)  हिंदुस्तानगवर्नमेंट के बीच मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए लोन की पहली किश्‍त जारी करने पर सहमति बन गई एक करार के तहत जेआईसीए की तरफ से हिंदुस्तान गवर्नमेंटको मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए 5,500 करोड़ रुपये के लोन की पहली किश्‍त के लिए रास्ता साफ हो गया बुलेट ट्रेन परियोजना के लिए दिसम्बर महीने से टेंडर जारी करने का कार्य प्रारम्भ हो जाएगा वहीं अगले वर्ष की आरंभ से कार्य भी प्रारम्भ होने की आसार है

Image result for बुलेट ट्रेन के लिए जापान ने खाेेल दी तिजोरी

हर 6 महीने में मिल सकेगी लोन की किश्त 
हिंदुस्तान  जापान इंटरनेशनल कोऑपरेशन एजेंसी (जेआईसीए) के साथ हुए समझौते के तहत हिंदुस्तान आवश्यकता के अनुसार हर छह महीने में लोन की किश्त ले सकेगा वहीं जेआईसीए की ओर से कोलकाता ईस्ट-वेस्ट मेट्रो प्रोजेक्ट के तहत हावड़ा मैदान से सॉल्ट लेक सेक्टर-5 तक मेट्रो लाइन बनाने के लिए 1600 करोड़ रुपए का कर्ज भी दिया जाएगा

पीएम नरेंद्र मोदी चाहते हैं कि राष्ट्र के स्वतंत्रता के 75 साल पूरे होने पर 15 अगस्त 2022 राष्ट्र के लोगों को बुलेट ट्रेन को तोहफा मिल सके इसके लिए इस प्रोजेक्ट का कार्य तेजी से पूरा किए जाने का कोशिश किया जा रहा है इस प्रोजेक्ट के लिए भूमि अधिग्रहण का कार्य दिसम्बर तक पूरा होने की आसार है इसके बाद बाकी के कामों के लिए टेंडर दिए जाएंगेसमाचार है कि हिंदुस्तान गवर्नमेंट जापान से 18 बुलेट ट्रेन खरीदने की तैयारी कर रही है यह सौदा 7,000 करोड़ रुपये का हो सकता है इस सौदे के तहत टेक्नोलॉजी ट्रांसफर भी किया जाएगा ताकि हिंदुस्तान में बुलेट ट्रेनें बनाई जा सकें

मुंबई से अहमदाबाद के बीच चलेेेेगी पहली बुलेट ट्रेन 
राष्ट्र की पहली बुलेट ट्रेनमुंबई से अहमदाबाद के बीच चलायी जाएगी  इस पूरे कॉरिडॉर की लम्बाई 508 किलोमीटर है कॉरिडोर पर बुलेट ट्रेन की स्पीड 350 किमी प्रति घंटा होने की उम्मीद है यानी मुंबई से अहमदाबाद महज 2 घंटे में पहुंचा जा सकेगा अभी इस दूरी को तय करने में इंडियन रेल की गाड़ि‍यों से 7 घंटा  फ्लाइट से एक घंटा लगता है

देश में बनेगी बुलेट ट्रेन 
इंडियन रेलवे ने पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप योजना के तहत एसेंबलिंग यूनिट की स्थापना करने कार्य काम भी प्रारम्भ कर दिया है जापानी ट्रेन निर्माता कंपनियां कावासाकी  हिताची हिंदुस्तान में इस कारखाने की स्थापना कर सकती हैं मेक इन इंडिया प्रोग्राम के तहत हिंदुस्तान में एसेंबलिंग प्लांट स्थापित करने के लिए निविदा आमंत्रित की जाएगी

Share & Get Rs.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!