Breaking News

बलात्कार पीड़िता का लेटर सामने आने में इतनी देर क्यों , जस्टिस गोगोई ने जवाब माँगा

 उन्नाव की बलात्कार पीड़िता ने आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की ओर से मिल रहीं धमकियों को लेकर चीफ जस्टिस रंजन गोगोई को चिट्ठी लिखी थी. इसके सीजेआई तक पहुंचने में हुई देरी को लेकर ने बुधवार को शीर्ष न्यायालय की रजिस्ट्री से एक सप्ताह में जवाब मांगा. उन्होंनेपूछा है कि बलात्कार पीड़िता के लेटर को मेरे सामने आने मेंइतनी देर क्योंहुई?

उधर, यूपी सरकार की सिफारिश के बाद केन्द्र सरकार ने उन्नाव बलात्कार पीड़िता के साथ हुए सड़क हादसे की जाँच CBI को सौंप दी है. जाँच एजेंसी ने कुलदीप सेंगर समेत 10 आरोपियों के विरूद्ध केस दर्ज कर लिया है. 20 अन्य लोगों के विरूद्ध भी हत्या, मर्डर का कोशिश  आपराधिक साजिश की धारा में मुद्दा दर्ज हुआ है.

loading...

12 जुलाई को सीजेआई गोगोई कोलिखे गए लेटर में पीड़िता  उसकी मांने सुरक्षा की गुहार लगाई थी. इसमें लिखाथा- उन लोगों पर एक्शन लिया जाए, जो उसे धमकाते हैं.लोग घर आकर केस वापस लेने की धमकी देते हैं. कहते हैं कि अगर ऐसा नहीं किया तो झूठे केस में फंसाकर जिंदगीभर कारागार में बंद करवा देंगे. कुलदीप सिंह के भाई की धमकी के 20 दिन बाद रविवार को पीड़िता  उसका परिवार सड़क एक्सीडेंट का शिकार हो गया.

उधर, लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल काॅलेज (केजीएमयू) ट्रामा सेंटर में पीड़िता जिंदगी  मृत्यु के बीच जूझ रही है. उसकी हालत गम्भीर बनी हुई है. पीड़िता के परिजन मंगलवार प्रातः काल किंग ट्रामा सेंटर के बाहर धरने पर बैठ गए. इसके बाद सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव परिजनों से मिले तो उन्होंने धरना समाप्त कर दिया. सपा ने पीड़िता के परिजनों को 16 लाख रुपए की मदद दी है.

पीड़िता औरपरिवार रविवार कोजेल में बंदचाचा से मिलने जा रहा था. तभी रास्ते में एक ट्रक ने उनकी कार को मुक़ाबला मार दी. इसमें चाची  मौसी की मृत्यु हो गई. पीड़िता  गाड़ी चला रहा एडवोकेट गंभीर रूप से घायल हो गए थे. पीड़िता ने सेंगर पर बलात्कार का आरोप लगाया था.पीड़िता की हालत गम्भीर बनी हुई है. डॉक्टरों के मुताबिक पीड़िता को वेंटीलेटर पर रखा गया है.

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!