Breaking News

फलों पर स्टिकर चिपकाने वाले व्यापारियों को FSSAI का निर्देश

फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (FSSAI) ने फल विक्रेताओं को कहा है कि वह फलों के ऊपर स्टिकर चिपकाने से परहेज करें क्योंकि स्टिकर पर लगे कैमिकल की वजह से फल दूषित हो सकता है। खाद्य नियमों को जारी करने वाली इस संस्था ने कहा कि स्टिकर चिपकाने के लिए जिस गोंद का इस्तेमाल होता है उसके सुरक्षित होने की अभी जानकारी नहीं है ऐसे में फल बिक्रेताओं को सलाह दी जाती है कि वह फलों पर स्टिकर चिपकाने से परहेज करें।

Related image

FSSAI ने यह भी कहा है कि देश में व्यापारी कई बार स्टिकरों का इस्तेमाल उत्पाद को प्रीमियम दर्जे का दिखाने में करते हैं, कई बार तो उत्पाद की खामियों को छुपाने के लिए भी स्टिकर का इस्तेमाल पाया गया है। FSSAI ने कहा है कि स्टिकर के गोंद में खतरनाक कैमिकल हो सकते हैं जो मानव सेहत को प्रभावित कर सकते हैं।

loading...

FSSAI ने फल व्यापारियों को फलों पर स्टिकर लगाने से बचने की सलाह दी है, और अगर स्टिकर लगाना जरूरी भी है तो व्यापारी को इस बात का ध्यान रखे कि स्टिकर के गोंद से मानव सेहत पर किसी तरह का असर नहीं पड़े।

FSSAI ने कहा है कि विदेशों में फलों पर स्टिकर का इस्तेमाल इसलिए होता है ताकि उस स्टिकर पर दी गई जानकारी या कोड के जरिए फल के बारे में पूरी जानकारी हासिल की जा सके। लेकिन भारत में भारत में व्यापारी फल के ऊपर स्टिकर का इस्तेमाल उसे प्रीमियम दिखाने या कई बार खामियां छुपाने में करते हैं। भारत में फलों पर जो स्टिकर चिपके होते हैं उनपर व्यापारी के ब्रांड का नाम, ओके टेस्टेड, बेस्ट क्वॉलिटी या फल का नाम लिखा होता है। इस तरह की जानकारी को दिये जाने की जरूरत नहीं है।

FSSAI ने उपभोक्ताओं को निर्देश दिया है कि वह ऐसा नहीं समझें कि जिन फलों पर स्टिकर चिपके हुए हैं वह प्रीमियम क्वॉलिटी के हैं, फल को खाने से पहले स्टिकर को हटाने के लिए कहा गया है और साथ में यह भी कहा गया है फल के जिस भाग पर स्टिकर चिपका हुआ था उसे छिल दें या काट दें।

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!