नौकरी के आठवें दिन हुई इस युवक की मौत

तुर्की और रूस के बीच समुद्र में बीते 21 जनवरी को दो जहाजों में आग लग गई थी। जानकारी के मुताबिक, हादसे में करीब 11 लोगों की मौत हो गई थी। मरने वालों में उत्तर प्रदेश के फतेहपुर सीकरी के रहने वाले विक्रम सिंह भी शामिल थे। बता दें, विक्रम सिंह नेवी में रूस में कैप्टन के पद पर तैनात हुए थे। नौकरी के आठवें दिन ही जहाज में आग लगने से उनकी मौत हो गयी। रविवार को जब विक्रम का पार्थिव शरीर घर पहुंचा। सोमवार को उनका अंतिम संस्कार किया गया।

नौकरी के आठवें दिन ही मौत

बता दें, मुख्तार सिंह के दो पुत्र ​थे। एक बेटा घर पर ही अपने पिता का कारोबार को देखता है। दूसरा बेटा विक्रम सिंह इसी साल नेवी में रूस में कैप्टन के पद पर तैनात हुआ था। नौकरी के आठवें ही दिन जहाज में आग लगने से उसकी मौत हो गयी।

घरवालों का रो-रोकर बुरा हाल

रविवार को विक्रम सिंह का पार्थिव शरीर उनके घर पहुंचा तो देखने के लिए लोगों का तांता लग गया। दूरदराज से स्थानीय लोग व राजनेता पहुंचे। घरवालों का रो-रोकर बुरा हाल है। जवान बेटे की मौत से गांव में कोहराम मचा हुआ है। अंतिम संस्कार में सांसद चौधरी बाबू लाल और तमाम पुलिस बल मौजूद रहा।

कैसे लगी थी जहाज में आग

21 जनवरी को कैप्टन विक्रम सिंह व उसके 23 अन्य साथी जहाज को लेकर समुद्र में तुर्की के रास्ते पर चले थे। बताया जा रहा है कि इस दौरान जहाज में पेट्रोल खत्म होने की वजह से दूसरे जहाज को पेट्रोल के लिए बुलाया गया था। इसके बाद तुर्की और रूस के बीच में दोनो जहाज पेट्रोल भरने के लिए पेट्रोल का आदान-प्रदान कर रहे थे।जो जहाज पेट्रोल ट्रांसफर कर रहा था, उसमें अचानक आग लग गई, जिससे घटनास्थल पर ही कई लोगों की जान चली गई।