Breaking News

जैसलमेर: अद्भुत है बम वाली देवी तनोट माता का मंदिर

राष्ट्र में वैसे तो हजारों देवी देवताओं के मंदिर हैं लेकिन राजस्थान के पश्चिमी सीमा के जैसलमेर जिले की पाक से सटे सीमा बना यह तनोट माता का मंदिर अपने आप में अद्भुत मंदिर है सीमा पर बना यह मंदिर श्रद्धालुओं की आस्था के केन्द्र के साथ साथ हिंदुस्तान पाकिस्तान के1965 और 1971 के युद्ध का गवाह भी है ये माता के चमत्कार ही है जो आज इसे श्रद्धालुओं  सेना के दिलों में विशेष जगह दिलाये हुए है स्थानीए लोगों की मानें तो 1965 के हिंदुस्तान पाकिस्तान युद्ध के दौरान इंडियन सैनिकों  सीमा सुरक्षा बल के जवानों की तनोट माता है मां बनकर ही रक्षा करी थी

Image result for देवी तनोट माता का मंदिर

जैसलमेर के थार रेगिस्तान में 120 किमी दूर सीमा के पास तनोट माता का सिद्ध मंदिर स्थित है यह मंदिर हिंदुस्तान ही नहीं बल्कि पाकिस्तानी सेना के फौजियों के लिए भी आस्था का केन्द्र रहा है राजस्थान के जैसलमेर एरिया में पाकिस्तानी सेना को परास्त करने में तनोट माता की किरदार बड़ी अहम मानी जाती है यहां तक मान्यता है कि माता ने सैनिकों की मदद की  पाकिस्तानी सेना को पीछे हटना पड़ा इस घटना की याद में तनोट माता मंदिर के संग्रहालय में आज भी पाक द्वारा दागे गये जीवित बम रखे हुए हैं

loading...

लोगों की मानें तो दुश्मन ने तीन अलग-अलग दिशाओं से तनोट पर भारी आक्रमण किया शत्रु के तोपखाने जबर्दस्त आग उगलते रहे थे तनोट की रक्षा के लिए मेजर जय सिंह की कमांड में ग्रेनेडियर की एक कंपनी  सीमा सुरक्षा बल की दो कंपनियां शत्रु की पूरी ब्रिगेड का सामना कर रही थी 1965 की लड़ाई में पाकिस्तानी सेना कि तरफ से गिराए गए करीब 3000 बम भी इस मंदिर पर खरोच तक नहीं ला सके यहां तक कि मंदिर परिसर में गिरे 400 बम तो फटे तक नहीं

यहां से पाकिस्तान बोर्डर मात्र 20 किलोमीटर दूर है साल 1965 के युद्ध के दौरान माता के चमत्कारों के आगे नतमस्तक हुए पाकिस्तानी ब्रिगेडियर शाहनवाजखान ने हिंदुस्तानगवर्नमेंट से यहां दर्शन करने की अनुमति देने का अनुरोध किया करीब ढ़ाई वर्ष की जद्दोजहद के बार हिंदुस्तान गवर्नमेंट से अनुमति मिलने पर ब्रिगेडियर खान ने न केवल माता की प्रतिमा के दर्शन किए बल्कि मंदिर में चांदी का एक सुन्दर छत्र भी चढ़ाया जो आज भी मंदिर में विद्यमान है

स्थानीए लोगों की मानें तो तनोट पर आक्रमण से पहले दुश्मन सेनाओं ने तीनों दिशाओं से इंडियन सेना को घेर लिया था उनकी मंशा तनोट पर कब्जा करने की थी क्योंकि अगर पाकिस्तान सेनातनोट पर कब्जा कर लेती तो वह इस एरिया पर अपना दावा कर कर सकती थी इसलिये दोनो ही सेनाओं के लिये तनोट जरूरी जगह बन गया था माना जाता है कि शत्रुने तनोट माता मंदिर के इर्द गिर्द के एरिया में करीब तीन हजार गोले बरसाये लेकिन इनमें से अधिकतर अपना लक्ष्य चूक गये इतना ही नहीं पाकिस्तान सेना द्वारा मंदिर को निशाना बना कर करीब 450 गोले बरसाये गये लेकिर माता के चमत्कार से एक भी बम फटा नहीं  मंदिर को खंरोंच तक नहीं आई जिसके बाद इंडियन सेना के जवाबी हमले ने पाकिस्तान सैनिकों वापिस लौटने पर मजबूर कर दिया

माता के बारे में बोला जाता है कि युद्ध के समय माता के असर ने पाकिस्तानी सेना को इस कदर उलझा दिया था कि रात के अंधेरे में पाकिस्तान सेना अपने ही सैनिकों को इंडियन सैनिक समझ कर उन पर गोलाबारी करने लगे  परिणाम स्वरूप स्वयं पाकिस्तान सेना द्वारा अपनी सेना का सफाया हो गया इस घटना के गवाह के तौर पर आज भी मंदिर परिसर में 450 तोप के गोले रखे हुए हैं जो यहां आने वाले श्रद्धालुओं के लिये भी आकर्षण का केन्द्र है

लगभग 1200 वर्ष पुराने तनोट माता के मंदिर के महत्व को देखते हुए बीएसएफ ने यहां अपनी चौकी बनाई है, इतना ही नहीं बीएसएफ के जवानों द्वारा अब मंदिर की पूरी देखरेख की जाती है मंदिर की सफाई से लेकर पूजा अर्चना  यहां आने वाले श्रद्धालुओं के लिये सुविधाएं जुटाने तक का सारा कार्य अब बीएसएफ बखूबी निभा रही है बीएसएफ ने यहां आने वाले श्रद्धालुओं के लिये विशेष सुविधांए भी जुटा रखी है मंदिर  श्रद्धालुओं की सेवा का जज्बा यहां जवानों में साफ तौर से देखने को मिलता है

रूमाल बांधकर मांगते हैं मन्नत
माता के इस मंदिर में रूमाल बांधकर मन्न्त मांगने का नियम है जहां CM से लेकर कई मंत्रीयों और नेताओं के साथ आमजन ने भी माता के मंदिर में रूमाल बांधकर मन्नत मांगी जिसे माता ने पूरा भी किया तनोट माता को रूमाल वाली देवी के नाम से भी जाना जाता है माता तनोट के प्रति प्रगाढ़ आस्था रखने वाले भक्त मंदिर में रूमाल बांधकर मन्नत मांगते हैं  मन्नत पूरी होने पर रूमाल खोला जाता है

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!