Breaking News

अमेरिका में गैरकानूनी तरीके प्रवेश के लिए 50 हजार डॉलर तक खर्च करते हैं भारतीय

एक तरफ जहां कई हिंदुस्तानियों ने अमेरिका में सफलता के झंडे गाड़े हैं, वहीं बड़ी संख्या में हिंदुस्तानियों ने अमेरिका में गैरकानूनी रूप से प्रवेश करने की भी हिमाकत कर डाली है अमेरिका के कस्टम एंड बॉर्डर प्रोटेक्शन (CBP) ने शुक्रवार को बोला कि बड़ी संख्या में इंडियन गैरकानूनी रूप से अमेरिका में प्रवेश कर रहे हैं हाल की तुलना में साल 2018 में अरैस्ट किए गए ऐसे हिंदुस्तानियों की संख्या तीन गुना बढ़ गई है

Image result for अमेरिका में गैरकानूनी तरीके से घुस रहे भारतीय

प्रवेश के लिए 50 हजार डॉलर तक करते हैं खर्च
अमेरिकी अधिकारियों ने बोला कि अमेरिका  मेक्सिको की सीमा पर 25,000-50,000 डॉलर प्रति आदमी खर्च कर इंडियन गैरकानूनी रूप से अमेरिका की सीमा में दाखिल हो रहे हैं अधिकारियों ने बोला कि कुछ हिंदुस्तानियों के उत्पीड़न का दावा सही प्रतीत होता है लेकिन अधिकतर संख्या में वैसे इंडियन हैं जो फर्जी दस्तावेज के साथ पैसे खर्च कर अमेरिका की सीमा में प्रवेश करते हुए पकड़े गए हैं इनके विरूद्ध धोखाधड़ी  अन्य आरोप में मामले दर्ज किए गए हैं ये इंडियन शरण भी मांगते हैं

loading...

मेक्सिकली शहर से प्रवेश आसान
ऑफिसर ने बोला कि CBP को उम्मीद है कि 30 सितंबर को समाप्त हुई अवधि का डेटा बताएगा कि करीब 9,000 इंडियन इस मामले में अरैस्ट किए गए हैं जबकि साल 2017 में समान अवधि में 3,162 इंडियन पकड़े गए थे इस वर्ष करीब 4,000 इंडियन मेक्सिकली सीमा में तीन किलोमीटर के एरिया में अरैस्ट किए गए उन्होंने बोला कि मेक्सिकली सीमा से सटा एक सुरक्षित शहर है, जहां से अमेरिका में प्रवेश करने में मदद मिलती है

मानव तस्करी बड़े पैमाने पर 
ऑफिसर के मुताबिक, शरण मांगने वाले निचले जाति के अछूत हिंदुस्तानियों को अपनी जाति से बाहर जाकर सिख से विवाह करने पर जान से मारने की धमकी का सामना करना पड़ता है, जबकि शरण मांगने वाले फर्जी लोग दस्तावेज के साथ छेड़छाड़ कर प्रवेश करने की फिराक में होते हैं बोला जा रहा है कि कई गैरकानूनी तरीके से अभी भी कई इंडियन अमेरिका में प्रवेश कर रहे हैं मानव तस्करी के जरिए ऐसी हरकतें हो रही हैं

हाल ही में हिंदुस्तान के मासूम बच्चों को अमेरिका में ले जाकर बेचने वाले रैकेट का पर्दाफाश हुआ गिरफ्त में आए रैकेट ने अब तक 300 बच्चों को अमेरिका ले जाकर बेचने की बात कबूली थी ये रैकेट उन बच्चों को निशाना बनाता था जिनके मां-बाप बहुत ज्यादा गरीब होते हैं

Share & Get Rs.
Loading...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!